कांग्रेस ने सीएए और एनआरसी खिलाफ नहीं खोले पत्ते, इस दिन हो सकती है बैठक

देहरादून: भारत में पिछले कई दिनों से CAA का संयुक्त विरोध करने के लिए देहरादून में बनाए जा रहे संयुक्त मोर्चा में शामिल होने को लेकर कांग्रेस ने अभी अपने पत्ते नहीं खोले हैं. वहीं यह भी कहा जा रहा है कि कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह का कहना है कि वे पार्टी स्तर पर बातचीत करने के बाद ही कोई फैसला करेंगे. इतना जरूर है कि सीएए और एनआरसी के विरोध को लेकर 21 जनवरी 2020 को बुलाई गई बैठक में शामिल होने के लिए उन्होंने हामी भर दी है. सीएए और एनआरसी के विरोध को धार देने के लिए साझा मोर्चा बनाने की पहल कांग्रेस केंद्रीय स्तर पर कर रही है. देहरादून में प्रदेश कांग्रेस को यह मौका बैठे बिठाए ही मिल गया है. वामपंथी संगठनों के साथ ही कई गैर सरकारी संस्थाओं के प्रतिनिधियों की एक बैठक में संयुक्त मोर्चा बनाना तय किया गया है. इस मुहिम से कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय भी प्रत्यक्ष रूप जुड़े हुए हैं.

आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि यह तय किया गया था कि विरोध को तीखा करने के लिए इस मोर्चे का विस्तार किया जाए और इसमें सपा, बसपा के साथ ही क्षेत्रीय राजनीतिक दलों को भी शामिल किया जाए. वहीं मोर्चा के पदाधिकारियों की कोशिश है कि प्रमुख विपक्ष दल कांग्रेस इसमें मुख्य रूप से शामिल हो. जंहा इसको लेकर मोर्चे के नेता बाकायदा कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह से भी मिले थे. मोर्चा अब 21 जनवरी 2020 को सभी दलों की बैठक आयोजित कर रहा है और इसकी कोशिश है कि 30 जनवरी को देहरादून में विशाल प्रदर्शन किया जाए. 

सूत्रों का कहना है दूसरी ओर, प्रीतम सिंह इस मामले को लेकर अभी कोई फैसला नहीं कर पाए है. जंहा बीते शनिवार को प्रीतम सिंह ने कहा कि वे 21 जनवरी की बैठक में शामिल होंगे. जहां तक सीएए और एनआरसी के विरोध में कांग्रेस के खुलकर सामने आने का सवाल है, उस पर पार्टी पदाधिकारियों से बात करके फैसला लिया जाएगा. वहीं सूत्रों की माने तो कांग्रेस फिलहाल उन मुद्दों की तलाश में हैं, जिनसे प्रदेश सरकार को घेरा जा सके. सीएए और एनआरसी में प्रदेश सरकार पर सीधे चोट करने की संभावना कम ही है.

नागरिक समूह का बड़ा एलान, जारी हुआ स्वच्छ वायु जन घोषणापत्र

ट्रम्प का बड़ा बयान, कहा- ईरान कभी भी परमाणु हथियार....

गोरिल्ला को हो गया था मोतियाबिंद, डॉक्टरों ने किया कुछ ऐसा की फिर.....

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -