विदेश में पढ़ाई कर रहे बच्चों को पैसा भेजने से पहले इन बातों का रखे ख्याल

पूरी दुनिया को कोविड-महामारी प्रभावित कर रही है. विदेश में पढाई कर रहे छात्रों के पास यात्रा प्रतिबंधों और देश-व्यापी लॉकडाउन के कारण घर लौटने का विकल्प नहीं है. विश्वविद्यालयों और अंशकालिक नौकरियों के बावजूद विदेशों में छात्र पैसे के लिए अपने माता-पिता पर निर्भर हैं. ऐसे में यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि लॉकडाउन के दौरान उनके पास खुद की स्थिति बेहतर बनाए रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में धनराशि हो, ताकि वे किसी आकस्मिक चिकित्सा आपातकाल या अन्य जरूरतों का प्रबंधन कर सके. इसलिए, धन प्रेषण विकल्पों को समझना और एक ऐसे मंच का चयन करना महत्वपूर्ण है जो आसानी से धन हस्तांतरण की अनुमति देता है.

GSK ने हिन्दुस्तान यूनिलीवर की अपनी हिस्सेदारी बेची, 25480 करोड़ रुपये में हुई डील

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि प्रेषण प्लेटफ़ॉर्म पर नेविगेट करने से लेकर विनिमय दरों का आकलन करने तक और अपने घर में बैठे विदेश पैसे भेजना एक जटिल काम हो सकता है. यहां कुछ सुझाव ऐसे दिए गए हैं, जो आपके काम आ सकते हैं:

पाकिस्तान में पेट्रोलियम पदार्थों के दाम घटे, वहीं भारत में इससे सरकारी खजाने भरने की कवायद

सही से जानकारी प्राप्त करने के लिए प्लेटफ़ॉर्म की तुलना करने और विभिन्न पहलुओं, जैसे विनिमय दर, लेनदेन सीमा, प्रोसेसिंग शुल्क, ग्राहक सेवा और अनुभव आदि को समझने के लिए समय दे. कुछ प्लेटफॉर्म लाभार्थी पर अतिरिक्त शुल्क लगाते हैं और कई अन्य छिपी हुई लागतें भी हो सकती हैं. सुनिश्चित करें कि आप एक ऐसा प्लेटफॉर्म चुनते हैं जो पारदर्शिता की गारंटी देता है और आपके प्राप्तकर्ता को पूरी क्रेडिट राशि देता है.

सप्ताह के अंतिम कारोबारी दिन बढ़त के साथ खुले बाज़ार, बैंक के शेयर्स में दिखी मजबूती

सरकार दे रही सबसे सस्ता सोना खरीदने का मौका ! सोमवार से शुरू हो रही है ये स्कीम

इस बड़ी कंपनी ने Reliance Jio में लगाए करोड़ों रुपए, एक हफ्ते में तीसरा बड़ा निवेश

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -