मोदी कैबिनेट के 31 फीसद मंत्रियों पर दर्ज हैं हत्या-डकैती के केस, ADR की रिपोर्ट में हुआ खुलासा

नई दिल्ली: केंद्रीय कैबिनेट के 78 मंत्रियों में से 42 फीसदी ने अपने खिलाफ आपराधिक मामले होने की बात कही है, जिनमें से चार पर हत्या की कोशिश से संबंधित मामले भी दर्ज हैं. ये जानकारी ADR की रिपोर्ट से सामने आई है. बुधवार को 15 नए कैबिनेट मंत्रियों और 28 राज्य मंत्रियों ने शपथ ग्रहण की है, जिसके बाद मंत्री परिषद के कुल सदस्यों की तादाद 78 हो गई.

एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) ने चुनावी हलफनामों का हवाला देते हुए कहा कि इन सभी मंत्रियों के किए गए विश्लेषण में 33 फीसदी (42) ने अपने खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज होने का जिक्र किया है. करीब 24 या 31 फीसदी मंत्रियों ने हत्या, हत्या के प्रयास, डकैती आदि सहित संगीन आपराधिक मामलों का ऐलान किया है. गृह राज्य मंत्री बने कूच बेहार निर्वाचन क्षेत्र के निशित प्रमाणिक ने अपने खिलाफ हत्या से संबंधित एक केस की घोषणा की है. यह 35 वर्षीय मंत्री परिषद का सबसे युवा चेहरा भी हैं.

चार मंत्रियों ने हत्या के प्रयास से संबंधित मामलों की घोषणा की है. ये मंत्री हैं जॉन बारला, प्रमाणिक, पंकज चौधरी और वी मुरलीधरन. जिन मंत्रियों का विश्लेषण किया गया उनमें से 70 (90 फीसद) करोड़पति हैं और प्रति मंत्री औसत संपत्ति 16.24 करोड़ रुपये है. चार मंत्रियों ने 50 करोड़ रू से अधिक की संपत्ति का जिक्र किया है. ये मंत्री हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया, पीयूष गोयल, नारायण तातु राणे और राजीव चंद्रशेखर.

लगातार बढ़ते जा रहे है पेट्रोल-डीजल के दाम, आज फिर हुआ भारी इजाफा

नितिन गडकरी का बड़ा बयान, कहा- "सड़क मंत्रालय ने राजमार्गों के साथ स्मार्ट शहरों के लिए कैबिनेट..."

RBI ने बैंकों को संवेदनशील पदों पर कार्यरत कर्मचारियों के लिए अनिवार्य अवकाश नीति के जारी किए निर्देश

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -