कोरोना से पहले भी इस वायरस का शिकार हो चुका है  रियो ओलंपिक

कोरोना से पहले भी इस वायरस का शिकार हो चुका है  रियो ओलंपिक

ओलंपिक अधिकारियों ने टोक्यो की सराहना अब तब के सबसे अच्छे मेजबान शहर के रूप में की थी, लेकिन कोई भी कोरोना वायरस महामारी से निपटने की योजना नहीं बना सका, जिससे 2020 खेलों के अभूतपूर्व स्थगन के लिए मजबूर होना पड़ा. आयोजकों ने तैयारियों से सबका दिल जीता, लेकिन वायरस से हार गया. जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने मंगलवार को आईओसी अध्यक्ष थॉमस बाक से चर्चा कर इन खेलों को अगले साल तक टालने का फैसला कर लिया. यह पहला मौका है जब किसी बीमारी की वजह से खेलों का महाकुंभ कहलाए जाने वाला ओलंपिक टाला गया हो. अब 23 जुलाई 2020 से शुरू होने वाले यह खेल 2021 में होंगे.

जीका वायरस ने मारा था रियो ओलंपिक में 'डंक': जानकारी के लिए हम बता दें कि टोक्यो ओलंपिक की तरह 2016 में हुए रियो ओलंपिक में भी जीका वायरस का खतरा था. जब 2009 में रियो ने खेलों की मेजबानी हासिल की थी तो ब्राजील को उम्मीद नहीं थी कि उसे आर्थिक मंदी के दौर, बेरोजगारी और मच्छरों से होने वाले जीका वायरस, राजनीतिक संकट, बुनियादी ढांचे में रुकावट जैसी बाधाओं से जूझना होगा, जिसके बाद राष्ट्रपति दिल्मा रूसेफ पर महाभियोग चला दिया गया. इन सबने रियो की 2016 ओलंपिक की मेजबानी की खुशी को खत्म कर दिया था. ओलंपिक नौकयान और विंडसर्फिंग स्पर्धाओं के प्रतिस्पर्धियों को जहरीने पानी में भाग लेने का डर था, जो शहर की आधी जनसंख्या के सीवेज से भरा था. आज की ही तरह आठ साल पहले भी यही कयास लगाए जा रहे थे कि क्या इस वायरल के चलते ओलंपिक खेल रद्द हो जाएंगे, लेकिन इन चुनौतियों पर पार पाते हुए रियो में 5 से 21 अगस्त 2012 तक शानदार ओलंपिक खेलों का आयोजन हुआ था.

कैसे हुई थी ओलंपिक खेलों की शुरुआत: रिपोर्ट्स के अनुसार यह भी कहा जाता है कि ओलंपिक का पहला आधिकारिक आयोजन 776 ईसा पूर्व में हुआ था, जबकि आखिरी बार इसका आयोजन 394 ईसा में हुआ. प्राचीन काल में शांति के समय योद्धाओं के बीच प्रतिस्पर्धा के साथ खेलों का विकास हुआ. दौड़, मुक्केबाजी, कुश्ती और रथों की दौड़ सैनिक प्रशिक्षण का हिस्सा हुआ करते थे. इनमें से सबसे बेहतर प्रदर्शन करने वाले योद्धा प्रतिस्पर्धी खेलों में अपना दमखम दिखाते थे. इसके बाद रोम के सम्राट थियोडोसिस ने इसे मूर्ति पूजा वाला उत्सव करार देकर इस पर प्रतिबंधित कर दिया था.

लॉकडाउन के चलते खिलाड़ी रहे अपने कमरों में और करें यह काम  

फुटबॉल जगत में शोक की लहर नहीं रहे पूर्व मिडफील्डर अब्दुल लतीफ

बैडमिंटन संघ ने किया बड़ा एलान, कहा-  कोरोना के कहते घरों में ही रहें खिलाड़ी