गंगाजल करेगा कोरोना का खात्मा, तैयार हुआ स्प्रे     

Sep 15 2020 01:57 PM
गंगाजल करेगा कोरोना का खात्मा, तैयार हुआ स्प्रे      

वाराणसी: उत्तर प्रदेश के वाराणसी शहर में काशी हिंदू विश्वविद्यालय के इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस के परिक्षण में यह दावा किया गया है कि गंगाजल में उपस्थित बैक्टीरियोफॉज COVID-19 वायरस को हरा सकता है। गंगाजल से COVID-19 के उपचार के ह्यूमन ट्रायल की तैयारी के मध्य इस परिक्षण को इंटरनेशनल जर्नल ऑफ माइक्रोबायोलॉजी के अपकमिंग अंक में स्थान मिला है।

वही बीएचयू के न्यूरोलॉजी डिपार्टमेंट के एचओडी प्रो। रामेश्वर नाथ चौरसिया, न्यूरोलॉजिस्ट प्रो। वीएन मिश्रा की अगुवाई में चिकित्सको की टीम ने 490 व्यक्तियों पर सर्वे किया। प्रो। वीएन मिश्रा ने बताया कि टीम ने आरंभिक सर्वे में पाया कि नियमित गंगा स्नान तथा गंगाजल का किसी न किसी तौर पर सेवन करने वालों पर COVID-19 संक्रमण का थोड़ा भी प्रभाव नहीं है। साथ ही गंगा के 50 मीटर के दायरे में रहने वाले नियमित गंगा स्नान तथा गंगाजल का सेवन करने वाले 273 व्यक्तियों पर सर्वे किया गया। इसमें 30 से 90 आयुवर्ग के सम्मिलित थे। इसमें से किसी को COVID-19 नहीं हुआ। इस सर्वे ने हमारे परिक्षण को बल दिया।

वहीं 50 मीटर के दायरे में रहने वाले 217 व्यक्तियों को भी सम्मिलित किया गया जो गंगाजल का किसी तौर पर उपयोग नहीं करते थे। इसमें से 20 व्यक्तियों को COVID-19 हुआ तथा उसमें से दो की मौत भी हो गई। प्रो। मिश्र ने बताया कि गोमुख, बुलंदशहर, कानपुर, प्रयागराज, वाराणसी समेत 17 इलाकों से बैक्टीरियोफॉज के नमूनें लिए गए। इसमें पाया गया कि जहां गंगा पूर्ण रूप से स्वच्छ हैं उसमें दूसरे बैक्टीरिया को मारने की समर्थता है। हमारी टीम ने एक स्प्रे तैयार किया है तथा इससे COVID-19 का मुकाबला किया जा सकता है। वही अब देखना ये है की ये स्प्रे कितना कारगर सिद्ध होता है।

उज्जैन में CMO के आवास पर लोकायुक्त की टीम ने मारा छापा, 3 करोड़ की संपत्ति का खुलासा

मेडिकल कॉलेज के उद्घाटन समारोह में केरल के मुख्यमंत्री ने कही ये बात

राज्यसभा में पास हुआ एयरक्राफ्ट संशोधन बिल, यात्रियों की सुरक्षा में ढील देने पर लगेगा भारी जुर्माना