अमित शाह का सख्त सन्देश, कहा- चाहे ट्रम्प हो या कोई और, किसी का दखल बर्दाश्त नहीं

अमित शाह का सख्त सन्देश, कहा- चाहे ट्रम्प हो या कोई और, किसी का दखल बर्दाश्त नहीं

बुलढाणा: कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान के सुर में सुर मिलाने वालों को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इशारों-इशारों में सख्त मैसेज दिया है। महाराष्ट्र के बुलढाणा जिले में चुनावी सभा के दौरान अमित शाह ने कहा है कि पिछले कुछ वर्षों में हमारा साफ स्टैंड है कि हम लोग किसी भी मुल्क का हस्तक्षेप कश्मीर मुद्दे पर नहीं चाहते हैं। अमित शाह ने कहा है कि भले ही वह अमेरिकी राष्ट्रपति हों या कोई और, पीएम मोदी ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि कश्मीर हमारा आंतरिक मसला है और इसमें किसी भी देश के हस्तक्षेप की आवश्यकता नहीं है।

बुलढाना में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए अमित शाह ने ब्रिटेन की लेबर पार्टी के नेता जेरेमी कॉर्बिन के साथ कांग्रेस डेलिगेशन की मुलाकात और कश्मीर मुद्दे का उल्लेख करने पर कांग्रेस को घेरा। अमित शाह ने कहा कि राहुल गांधी के करीबी कमल धालीवाल (इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के प्रेजिडेंट) ने जेरेमी कॉर्बिन से मुलाकात की, साथ ही कहा कि कश्मीर में स्थिति सामान्य नहीं है। मैं राहुल गांधी से पूछना चाहता हूं कि आपकी पार्टी के लोग अंग्रेज नेता के समक्ष हमारे देश की कौन सी छवि पेश करने का प्रयास कर रहे हैं।

अमित शाह ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि धारा 370 के प्रावधानों को हटाए जाने के बाद देश में यह पहला विधानसभा चुनाव है। इस चुनाव में विश्व में यह संदेश जाना चाहिए कि पूरा भारत 370 हटाने के समर्थन में एकजुट है। इस दौरान उन्होंने NRC को लेकर कहा कि हम एनआरसी के माध्यम से देश से घुसपैठियों को बाहर भगाना चाहते हैं तो कांग्रेस को उससे भी समस्या है।

मानहानि मामले में राहुल गाँधी को राहत, अहमदाबाद कोर्ट ने दी जमानत

इथियोपिया के पीएम अबी अहमद को दिया गया नोबेल शांति पुरस्कार

प्रियंका गाँधी का मिशन यूपी, रायबरेली में आयोजित करेंगी 3 दिवसीय कार्यशाला