क्‍लाइमेट चेंज पर ट्रंप से भिड़ी ये प्रकृति प्रेमी महिला

क्‍लाइमेट चेंज पर ट्रंप से भिड़ी ये प्रकृति प्रेमी महिला

मंगलवार से स्विट्जरलैंड में शुरू हुए व‌र्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (डब्ल्यूईएफ) में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और जलवायु परिवर्तन कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग फिर आमने-सामने आ गए. दावोस में आयोजित इस सम्मेलन में 17 साल की ग्रेटा ने कहा कि जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए सिर्फ पेड़ लगाना पर्याप्त नहीं है. उनके निशाने पर सीधे तौर पर ट्रंप का भाषण था, जिसमें उन्होंने एक लाख करोड़ पेड़ लगाने की बात कही थी. साथ ही जलवायु परिवर्तन पर की जा रही भविष्यवाणियों को खारिज किया था.

बॉलीवुड के कारण पाकिस्तान में बढ़ रहे हैं यौन अपराध, पीएम ने लगाया बड़ा आरोप

इस मामले को लेकर ट्रंप ने हालांकि किसी का नाम नहीं लिया था, लेकिन उस दौरान दर्शक दीर्घा में ग्रेटा भी मौजूद थीं. डब्ल्यूईएफ में अपने मुख्य भाषण में ट्रंप ने जलवायु परिवर्तन कार्यकर्ताओं को मूर्ख ज्योतिषियों का उत्तराधिकारी भी करार दिया. जबकि थनबर्ग ने अपने भाषण में एक साल पहले डब्ल्यूईएफ में दिए गए भाषण की टिप्पणियों को दोहराया. उन्होंने कहा, हमारे घरों में आग लगी हुई है और आपकी निष्कि्रयता आग की लपटों को हवा दे रही है.

पाकिस्तान के हाल और बिगड़े, आटे और दाल के भाव बढ़े

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि उन्होंने जीवाश्म ईधन के निवेश पर तत्काल रोक लगाने की भी मांग की.विश्व के नेताओं द्वारा जलवायु परिवर्तन के हित में काम करने के वादों पर सवाल उठाते हुए ग्रेटा ने कहा, आप कहते हैं कि बच्चों को चिंता नहीं करनी चाहिए. इतना निराशावादी मत बनिए. इससे पहले पिछले साल भी व‌र्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के मंच पर ही दोनों आमने-सामने आ गए थे.तब ग्रेटा थनबर्ग की डोनाल्ड ट्रंप को घूरते हुए तस्वीर सामने आई थी.

भूख नहीं बल्कि इस बीमारी का शिकार हो रहें है दुनियाभर के शेर

ट्रम्प का बड़ा बयान, कहा- 'फिर करना चाहते है कश्मीर की मदद'...

1912 में डूबा था यह जहाज, अब अमेरिका और ब्रिटेन के बीच संरक्षण को लेकर हुआ समझौता