अफगानिस्तान सरकार ने पड़ोसी मुल्क को लताड़ा, कहा-शांति वार्ता से पहले तालिबान को....

अफगानिस्तान सरकार ने पड़ोसी मुल्क को लताड़ा, कहा-शांति वार्ता से पहले तालिबान को....

 

अफगानिस्तान सरकार देश में जारी विरोध और तालिबान से साथ अपने सबंधो को सुधारने का प्रयास कर रही है. इस कड़ी में अफगानिस्तान सरकार के प्रवक्ता ने कहा है कि किसी भी प्रकार की शांति वार्ता से पहले तालिबान को संघर्ष विराम करना होगा. उन्होंने दो टूक कहा कि अगर आतंकी संगठन ऐसा नहीं करता है तो अफगान सरकार से वार्ता नहीं होगी.राष्ट्रपति भवन के प्रवक्ता सादिक सीद्दिकी ने कहा कि तालिबान के संघर्ष विराम किए बिना ना तो लंबे समय तक क्षेत्र में शांति रह सकती है और ना ही हिंसा में किसी भी प्रकार की कमी आएगी.

दर्दनाक: सड़क हादसे में कार के नीचे फसी महिला

इस मामले को लेकर एक सूत्र ने कहा है कि तालिबान ने ¨हसा में कमी के लिए एक योजना तैयार की है, लेकिन वह अफगान सरकार के साथ वार्ता से पहले संघर्ष विराम के लिए तैयार नहीं है. अफगानिस्तान के लिए नाटो के प्रतिनिधि निकोलस काई का कहना है कि वह आशावादी हैं और उम्मीद करते हैं कि अमेरिका और तालिबान के बीच शांति वार्ता आगे बढ़ेगी और उससे अफगान सरकार से आतंकी संगठन की वार्ता का मार्ग प्रशस्त होगा.

पाकिस्तान: हिन्दू समुदाय ने श्मशान घाट के लिए लड़ी 28 साल लंबी लड़ाई, अब मिला ये आदेश

इसके अलावा उन्होंने कहा कि पिछले वर्षो के दौरान शांति प्रक्रिया के पक्ष में एक मजबूत क्षेत्रीय सहमति बनी है और वर्तमान समय में इस क्षेत्र में सुरक्षा बल पहले से कहीं अधिक मजबूत हैं. शांति वार्ता से जुड़े एक अन्य सूत्र ने कहा है कि इस मामले में अमेरिका के विशेष दूत जाल्मे खलीलजाद पिछले एक सप्ताह से कतर में हैं. इस दौरान उनकी तालिबान के उपनेता अब्दुल गनी बरादर के साथ अनौपचारिक बातचीत भी हुई है.

ऑस्ट्रेलिया : जंगल में आग के बीच 5000 ऊंटों की हत्या, हेलीकाप्टर से मारी गई गोली

टी20 वर्ल्ड कप टीम की कप्तान बनीं हरमनप्रीत, पिता नवदीप सिंह ने देश को दिया ये सन्देश

क्या फांसी के फंदे से बच गए मुशर्रफ ? सजा सुनाने वाली अदालत घोषित हुई असंवैधानिक