ब्रिटिश-भारतीय परिवार ऑटो से करेगा 6000 किमी का सफर तय, ये है वजह

ब्रिटिश-भारतीय परिवार ऑटो से करेगा 6000 किमी का सफर तय, ये है वजह

लंदन : बड़ी-बड़ी बीमारी के कारण लोग अपने परिजनों को खो देते हैं. ऐसे ही मिर्गी की बिमारी से भारतीय मूल के परिवार ने अपने एक परिजन को खो दिया. इसी से दूसरों की मदद के लिए ये परिवार अभियान चलाने वाला है जिससे जरूरतमंदों की  मदद की जा सके. ये भारतीय मूल का एक ब्रिटिश परिवार है जिसने लंदन से इस्तांबुल तक के लिए 'टुक टुक टू टर्की' का अभियान चलाने का फैसला लिया है. यह एक चैरिटी टूर होगा जिसके फण्ड से लोगों की मदद भी की जाएगी. जानकारी के अनुसार बता दें, इस अनोखे टूर में चार लोग शामिल हैं भरत सुमारिया, उनकी पत्नी रैचल, बेटी एमी और उसके प्रमी जेम्स हैं. 

रूस के वैज्ञानिक लुप्त हो रही विशालकाय प्रजातियों को लाएंगे वापस !

दरअसल, इनके ही परिवार की एक छोटी बेटी मिर्गी के कारण कारण उन्हें छोड़कर चली गई. उसी की याद में यह परिवार अगले माह से अपने घर की छोटी बेटी की याद में भारतीय ऑटोरिक्शा में इस यात्रा पर निकलेगा.

आप देख सकते हैं ये परिवार गुलाबी रंग के ऑटोरिक्शा से 6000 किमी का सफर तय करेगा. इस पर सुमारिया का कहना है कि साल 2012 में उन्होंने अपनी छोटी बेटी एमीली का निधन अचानक मिर्गी का दौरा पड़ने से हो गया था और उसी की याद में टूर शुरू किया गया है.

इसी पर वो कहते हैं इस टूर के लिए पहले 'टुक टुक टू टर्की एमीली की मौत पर बात करने और इसे एक सकारात्मक पहलू में बदलने के लिए हमारा एक तरीका है.' इस भारतीय-ब्रिटिश परिवार ने अपनी बेटी की लिए ये कदम उठाया है और इससे जो फण्ड मिलेगा वह चैरिटी में जायेगा.

खबरें और भी..

मंगल के बाद बृहस्पति पर मिले पानी होने के संकेत

अब मंगल पर पहाड़ों की खोज करेगा नासा

 

?