भोपाल में कोरोना मरीजों की संख्या हुई 95, तीन लाख लोग कैंटोनमेंट एरिया में बंद

भोपाल: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में भी कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. वहीं अब कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 95 हो गई है. करीब 3 लाख लोग घरों में कैद हो गए हैं, लेकिन हैरानी इस बात की है कि प्रशासन को इन इलाकों में कैद ज्यादातर लोगों की कॉन्टैक्ट हिस्ट्री अब तक प्रशासन के पास नहीं है. इन क्षेत्रों में स्क्रीनिंग और सर्वे का काम भी धीमी गति से चल रहा है. इसलिए यह नहीं कहा जा सकता कि इन क्षेत्रों के कितने लोग कोरोना संक्रमित होंगे. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के आदेश के बाद भोपाल, इंदौर और उज्जैन को पूरी तरह से सील कर दिया गया है. अब जरूरी चीजों की होम डिलीवरी जिला प्रशासन को कराने के लिए कहा गया है. इधर, जिले में सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक मैसेज पोस्ट, फाॅरवर्ड और लाइक करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है.  

वहीं भोपाल जिले में धारा 144 के तहत सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट करने या शेयर करने पर प्रतिबंध लगा दिए है.  इनमें वॉट्सएप, फेसबुक, ट्विटर के माध्यम से आपत्तिजनक संदेश, चित्र और ऑडियो-वीडियो मैसेज पोस्ट करने, फाॅरवर्ड या लाइक करने पर प्रतिबंध होगा. सोशल मीडिया पर कोई भी व्यक्ति आपत्तिजनक संदेश, चित्रों, ऑडियो और वीडियो मैसेज प्रसारित नहीं करेगा. कोई भी व्यक्ति धार्मिक, सामाजिक, व्यक्तिगत रूप से आपत्तिजनक और अश्लील संदेश नहीं भेजेगा. यह आदेश तत्काल प्रभाव से जिले की सभी राजस्व सीमाओं में आगामी आदेश तक प्रभावशील रहेगा.

बता दें की कलेक्टर और डीआईजी द्वारा क्रॉस चेक के लिए दिए गए सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आई है. जिले के यह दोनों अधिकारी 24 घंटे सक्रिय रहकर कार्य कर रहे है और लगातार भ्रमण कर रहे हैं. दोनों अधिकारी लगातार लोगों से मिलते हैं. कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने बताया कि भोपाल में पहला कोरोना संक्रमित मिलने के साथ ही उस क्षेत्र को कंटेंटमेंट क्षेत्र घोषित किया गया था और आज तक 80 से अधिक कैंटोनमेंट क्षेत्र बनाए गए हैं. यहां पर आवाजाही को पूरी तरह से रोका गया है, वहीं 650 से अधिक टीमें सर्वे कर रही हैं. आज तक 3 लाख से अधिक लोगों का सर्वे किया जा चुका है.

इंदौर की इस कॉलोनी में मुंबई-पुणे से आए हुए 150 लोग, अब तक नहीं हुई किसी की जाँच

कोरोना से बचाने के लिए भोपाल के वन विहार में पशुओं की निगरानी हुई शुरू

इंदौर : नहीं किया कोई कोरोना मरीज का इलाज, फिर भी डॉक्‍टर ने संक्रमण से गवाई जान

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -