भगवान के घर भी लॉकडाउन का असर, तिरुपति मंदिर से निकाले गए 1300 कर्मचारी

हैदराबाद: लॉकडाउन का असर पूरे देश के व्यवसायों के साथ ही मुल्क के सबसे अमीर मंदिर पर भी पड़ा है। 20 मार्च से बंद आंध्र प्रदेश के तिरुपति बालाजी मंदिर में काम करने वाले 1300 कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों को अब बाहर निकाल दिया गया है। इन कर्मचारियों का करार 30 अप्रैल को खत्म हो गया था, जिसके बाद मंदिर प्रशासन ने 1 मई से कॉन्ट्रैक्ट रिन्यू करने से इंकार कर दिया है।

दरअसल, तिरुपति बालाजी मंदिर प्रबंधन ने अनुबंध पर काम कर रहे 1300 कर्मचारियों को 1 मई से काम पर आने के लिए मना कर दिया है। मंदिर प्रशासन ने कहा कि लॉकडाउन के कारण काम बंद है, इसलिए अब इन 1300 कर्मचारियों के अनुबंध 30 अप्रैल से आगे नहीं बढ़ा पाएंगे। तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (TTD) ट्रस्ट की ओर से तीन गेस्टहाउस संचालित किए जाते हैं, जिनके नाम विष्णु निवासम, श्रीनिवासम और माधवम है।

निकाले गए सभी 1300 कर्मचारी इन्हीं गेस्ट हाउसों में कई सालों से कार्यरत थे। तिरुपति बालाजी मंदिर के प्रमुख वाईवी सुब्बा रेड्डी ने कहा कि लॉकडाउन के कारण सभी गेस्टहाउस बंद हैं, जिस कारण इन कर्मचारियों का अनुबंध नहीं बढ़ाया गया। नियमित कर्मचारियों को भी इस दौरान कोई काम नहीं दिया है। टीटीडी ट्रस्ट के प्रवक्ता टी रवि का कहना है कि सभी फैसले कानून के अनुसार लिए गए हैं। काम बंद होने के चलते कर्मचारियों को निकालने का फैसला लेना पड़ा है।

क्या अधिक नोट छापकर भारत बन सकता है सबसे अमीर ?

पेट्रोल-डीज़ल से भी सस्ता हो गया हवाई ईंधन, जानिए क्या है कीमतें

इस भारतीय ब्रांड के दम पर वैश्विक बाजार में दबदबा बनाने की तैयारी

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -