रवीश कुमार पर क्यों भड़कीं राष्ट्रीय निशानेबाज़ तारा शाहदेव ?

रवीश कुमार पर क्यों भड़कीं राष्ट्रीय निशानेबाज़ तारा शाहदेव ?
Share:

नई दिल्ली: शुक्रवार, (16 फरवरी) को, राष्ट्रीय निशानेबाज तारा शाहदेव ने एक्स (पूर्व ट्विटर) पर NDTV के पूर्व पत्रकार और मौजूदा यूट्यूबर रवीश कुमार को उनके पूर्व सहयोगियों की एक किताब का प्रचार करने के लिए आड़े हाथों लिया, जिसका नाम था: लव जिहाद और अन्य कल्न्पनाएँ। यह पुस्तक 'छोटा मोटा ब्लास्ट' फेम विवादास्पद पूर्व-NDTV एंकर श्रीनिवासन जैन और उनके सहयोगियों और पूर्व-NDTV कर्मचारियों मरियम अलवी और सुप्रिया शर्मा द्वारा सह-लिखित है।

किताब के शीर्षक से साफ पता चलता है कि लेखक ने लव जिहाद के विचार को सिरे से खारिज करने की कोशिश की है। ये भी उन तथ्यों के बावजूद जबकि ऐसी कई घटनाएं सामने आईं हैं, जिसमे मुस्लिम पुरुष कमजोर हिंदू महिलाओं को निशाना बनाया है, नाम बदलकर उन्हें धोखा दिया, फिर प्रेम जाल में फंसाकर उन्हें अपना धर्म बदलने के लिए मजबूर करते हैं। यही नहीं, ये घटनाएं हिन्दू महिलाओं के बलात्कार, अत्याचार और यहाँ तक कि हत्या तक भी पहुंची हैं। हालाँकि, लेखक ने अपनी पुस्तक में इन सब चीज़ों को काल्पनिक कहकर नकारा है। इस पुस्तक का रवीश कुमार ने प्रचार किया है। 

 

इसके बाद खुद इस खतरनाक खेल का शिकार हो चुकी नेशनल शूटर तारा शाहदेव ने रवीश कुमार की पोस्ट पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त दी है। उन्होंने लिखा है कि, 'रकीबुल जैसे जिहादी जिसने मुझे धर्म परिवर्तन #लवजिहाद के लिए जो शारीरिक और मानसिक प्रताड़नाएं दी , मैं उस समय समझ नही पाई थी की वो हैवानियत करने की हिम्मत उसमे कहां से आई ,लेकिन आज समझ आया की वो हिम्मत उन जैसे लोगो को आप जैसे लोग ही देते हो।'

अपनी इस पोस्ट में नेशनल शूटर तारा शाहदेव ने पूर्व-एनडीटीवी एंकर श्रीनिवासन जैन और उनके सहयोगियों मरियम अलवी और सुप्रिया शर्मा, उस किताब के सह-लेखक, को टैग किया, जिसे रवीश कुमार अपने पोस्ट में प्रचारित कर रहे थे। दरअसल, तारा शाहदेव एक ऐसी महिला हैं, जो इस शातिर चाल का शिकार हो गई थीं, जिसमें अच्छी तरह से प्रशिक्षित मुस्लिम पुरुष कमजोर हिंदू लड़कियों और महिलाओं को अपने जाल में फंसाते हैं।

उनका मामला साल 2014 का है, जब पीड़िता ने 7 जुलाई को हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार रकीब-उल हसन से शादी की थी। रकीब-उल हसन ने राष्ट्रीय स्तर के निशानेबाज को फंसाने के लिए खुद को रंजीत कोहली बताया था। हालाँकि, उनके मिलन के दूसरे दिन से ही, रकीब-उल हसन और मुस्ताक अहमद, जो उस समय सतर्कता के रजिस्ट्रार के रूप में कार्यरत थे, ने राष्ट्रीय स्तर के शूटर पर मुस्लिम बनने और निकाह (इस्लामी विवाह) करने के लिए दबाव डालना शुरू कर दिया।

यह पता चलने के बाद कि उसका पति मुस्लिम है, पीड़िता ने रकीब-उल हसन और उसकी मां के खिलाफ 19 अगस्त 2014 को हिंदपीढ़ी पुलिस स्टेशन में धारा 498 ए (संपत्ति के लिए पति या उसके परिवार द्वारा एक महिला पर अत्याचार करना) और भारतीय दंड संहिता की धारा 34 (सामान्य इरादे से दो या दो से अधिक व्यक्तियों को शामिल करते हुए कोई आपराधिक कृत्य करना) के तहत शिकायत दर्ज कराई। तारा ने ने आरोप लगाया कि उसके पति ने अपनी पहचान छुपाई और उसे उससे शादी करने के लिए गुमराह किया। तारा ने इस्लाम कबूल करने से इनकार करने पर उसे प्रताड़ित करने का भी आरोप लगाया।

मुस्ताक अहमद पर आरोप लगाया गया था कि उसने इन दोनों के साथ मिलकर उसे प्रताड़ित करने और दबाव में धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर करने की साजिश रची थी। मुस्ताक झारखंड उच्च न्यायालय के पूर्व रजिस्ट्रार (सतर्कता) थे। तारा के वकील ने बताया था कि, “रकीब ने हिंदू होने का नाटक करके तारा को उससे शादी करने के लिए मना लिया। विवाह संपन्न होने के बाद, उसने निकाह समारोह के लिए उसका जबरन धर्म परिवर्तन कराने की कोशिश की। जब उसने इनकार कर दिया, तो तारा को उसके घर में कैद कर दिया गया और कई दिनों तक उसपर अत्याचार किया गया। पुलिस ने अंततः उसे बचा लिया।'' 

इस बीच कौसर रानी (रकीबुल की माँ) ने राष्ट्रीय निशानेबाज तारा शाहदेव को धमकी दी कि अगर वह अपना धर्म इस्लाम में परिवर्तित करने से इंकार करती रही, तो उसके बिस्तर पर साथी बदलते रहेंगे। तारा शाहदेव को सख्त चेतावनी दी गई कि वह सिन्दूर न लगाए, वरना उसके हाथ तोड़ दिए जाएंगे। उसका धर्म परिवर्तन कराने के लिए कई मुस्लिम मौलवियों को बुलाया गया था। इंकार करने पर उसे बुरी तरह पीटा गया। उसे धमकी दी गई कि यदि उसने अपने साथ हो रहे अत्याचार के बारे में किसी को बताया तो न सिर्फ उसे बल्कि उसके परिवार के सदस्यों को भी जान से मार दिया जाएगा। दोषियों ने उससे दहेज की मांग भी की।

किसी तरह रकीबुल के चंगुल से छूटने से पहले तारा शाहदेव ने नरक भोगा और उनका उत्पीड़न एक महीने तक जारी रहा। उनके शरीर पर सिगरेट के निशान थे और उन्हें बचाने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। रकीब-उल हसन ने उसके साथ शारीरिक उत्पीड़न करने की बात कबूल की, लेकिन उसे धर्म बदलने के लिए मजबूर करने से इनकार किया। झारखंड उच्च न्यायालय के फैसले के बाद 2015 में सीबीआई ने जांच शुरू की और दिल्ली में मामला दर्ज किया गया।

न्याय के लिए तारा शाहदेव की लंबी लड़ाई अक्टूबर 2023 में सफल हुई, जब केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) अदालत ने उस पर अत्याचार करने वालों के लिए कठोर दंड की घोषणा की। CBI ने उनके पूर्व पति रकीब-उल हसन को आजीवन कारावास और उनकी मां कौसर रानी को दस साल कैद की सजा सुनाई। साजिश रचने के आरोपी हाईकोर्ट के तत्कालीन रजिस्ट्रार मुस्ताक अहमद को भी 15 साल कैद की सजा सुनाई गई थी। बता दें कि, इस तरह के कई मामले भारत के तमाम हिस्सों से लगातार सामने आते रहते हैं। यहाँ तक कि, ब्रिटेन की गृह सचिव सुएला ब्रेवरमैन भी ये बात कह चुकी हैं। हालाँकि, ब्रिटेन में इसे ग्रूमिंग जिहाद कहा जा रहा है। ब्रेवरमैन ने कहा था कि, पाकिस्तानी युवा, ब्रिटेन में गोरी लड़कियों को ड्रग्स देते है और उनका बलात्कर करते हैं। उन्होंने कहा कि ‘हम जो देख रहे हैं, अब वो एक प्रैक्टिस बन चुका है, जिसमें कमजोर, सफेद, अंग्रेजी लड़कियों को ब्रिटिश पाकिस्तानियों के गिरोहों द्वारा पीछा किया जाता है और फिर ड्रग्स आदि देकर उनका रेप किया जाता है।’

शर्मनाक! MP में सरेआम बुजुर्ग महिला के कपड़े फाड़कर मुंह में भरा मानव मल, लगाया ये गंभीर आरोप

'आप मुझे गिरफ्तार कर सकते हैं, मेरे विचारों को नहीं..', ED के 6 समन टालने के बाद विधानसभा में गरजे केजरीवाल

बच्चों को 'साइंटिस्ट' बनने में निशुल्क मदद करेगा ISRO, जानिए Yuvika-2024 के लिए कैसे अप्लाई कर सकते हैं आप

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -