इस राज्य में दिखा 'जवाद तूफान' का असर, बढ़ी धुंध-गिरा पारा

पटनाः बिहार की राजधानी पटना में अभी से जवाद चक्रवातीय तूफान का प्रभाव नजर आ रहा है। आसमान में बादल छाए हुए है। सूरज को बादल घेर रखा है। कभी कभी बादल को चीरता हुआ सूरज की किरणें अवश्य देखने को मिल रही है। जवाद तूफान कल उड़ीसा के तट से टकराएगा। दूसरी तरफ पटना में ठंड में भी बढ़ोतरी हुई है। कुहासे के कारण न्यूनतम तापमान में कमी देखने को मिल रही है। रात में तापमान और कम रहा है। धुंध एवं कुहासे के बीच प्रातः में सड़क पर ट्रैफिक कम रहा। मौसम विभाग ने पुर्वानुमान में बताया है कि जवाद तूफान का आंशिक प्रभाव बिहार में देखने को मिलेगा।

वही बिहार के पूर्वी इलाके में 4 और 5 दिसंबर को हल्की बारिश होगी, वहीं पूरे बिहार में आंशिक बादल छाए रहेंगे। बीते 24 घंटे के भीतर पटना की विज्विलिटी सबसे कम 800 मीटर रही है। वही राज्य में सबसे कम तापमान औरंगाबाद में 11।6 डिग्री सेल्सियस दर्ज की गई है। मौसम केंद्र पटना के निदेशक विवेक सिन्हा के अनुसार, राज्य में पूर्वी एवं उत्तर-पूर्वी हवा लगातार चल रही है। हवा का विस्तार समुद्रतल से 1।5 किलोमीटर तक फैला है। इन सभी के असर से राज्य के ज्यादातर भागों में आंशिक तौर पर बादल छाए रहने के साथ रात के तापमान में आंशिक बढ़ोतरी होगी। तीन दिनों तक मौसम शुष्क बने रहने के साथ चौथे दिन मतलब 5 दिसंबर को राज्य के पूर्वी हिस्सों के कुछ जगहों पर हल्की बूंदाबांदी का पूर्वानुमान है।

साथ ही मौसम विभाग ने कहा कि 65 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से उत्तरी आंध्र प्रदेश तट एवं ओडिशा तट पर शनिवार की शाम से अगले 12 घंटे तक तेज हवाएं चल सकती हैं। मौसम विज्ञान के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि चक्रवाती तूफान समुद्र में बड़े तूफान में परिवर्तित हो जाएगा तथा 110 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से हवाएं चलेंगी। हवा की रफ़्तार रविवार को प्रातः से अगले 12 घंटों तक 80 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है।

Ind Vs NZ: एज़ाज़ की फिरकी में उलझी टीम इंडिया, अकेले मयंक लड़ा रहे किला

बहन कैटरीना की शादी में शामिल होने के लिए भारत पहुंचे भाई!

चक्रवात तूफ़ान जवाद की वजह से रद्द हुई 150 ट्रैन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -