लोगों के बीच आज रोमांच बिखेरेगा हिंगोट युद्ध का आतिशबाजी नज़ारा

इंदौर/गौतमपुर। इंदौर के समीप गौतमपुरा के देवनारायण मंदिर के सामने स्थित मैदान में आज शानदार आतिशबाजी नज़ारा दिखाई देगा। यहां पर कुछ लोग हिंगोट के वार से अपने प्रतिद्वंदी को चित करने का प्रयास करेंगे। सामने मौजूद दल के लोग इन लोगों के हमलों से बचने की कोशिश  करेंगे और जवाब में हिंगोट चलाऐंगे। इस तरह के नज़ारे आकाश में अग्नि वर्षा के साथ ही रोमांच बिखेरेंगे। इस रोमांचक खेल को हिंगोट युद्ध के नाम से जाना जाता है। नाटकीय युद्ध के दौरान गौतमुपरा की ओर से लड़ने वाले तुर्रा कहलाते हैं तो रूणजी गांव के लोगों को कलंगी नाम दिया जाता है।

गौतमपुरा के हिंगोट युद्ध से लोगों के बीच रोमांच का नज़ारा दिखाई देगा। आयोजन को लेकर व्यापक पैमाने पर तैयारियां की जा रही हैं। आयोजन वाले स्थल से कुछ पहले ही यातायात को नियंत्रित करने की व्यवस्था कर दी गई है। गौरतलब है कि हिंगोट तैयार करने के लिए हिंगोट नामक फल के खोल में बारूद, आदि सामग्री भरकर रख दी जाती है और इसे लकड़ी के टुकड़े से बंद कर दिया जाता है।

इसके बाद इसे आतिशबाजी के लिए उपयोग में लाया जाता है। लोगों द्वारा हिंगोट युद्ध का जमकर आनंद लिया जाता है। गौरतलब है कि सोमवार की शाम हिंगोट का आयोजन होता है। ऐसे में हिंगोट युद्ध देखने के लिए देपालपुर क्षेत्र की ओर बड़े पैमाने पर लोग पहुंच रहे हैं। लोगों में हिंगोट युद्ध को लेकर खासा उत्साह रहता है।

मालवा में मनाया जाता है सुहाग पड़वा का पर्व

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -