चुनाव आयोग का बड़ा फैसला, इस दिन से शुरू होंगी चुनावी जनसभाएं

देहरादून: चुनाव आयोग ने एक बार फिर कोरोना वायरस के बीच राजनीतिक दलों व उम्मीदवारों को कुछ राहत दी है। चुनाव आयोग ने जहां 31 जनवरी तक जनसभा, रैलियों, रोड शो पर पाबंदी बढ़ा दी है। वहीं यह भी तय कर दिया है कि 1 फरवरी से 12 फरवरी तक राजनीतिक दल अथवा नेता अपनी जनसभाएं कर सकेंगे। दूसरी तरफ चुनाव आयोग ने सियासी दलों को खुले मैदान में ज्यादातर 500 व्यक्तियों की उपस्थिति में वीडियो वाहन से प्रचार की इजाजत दे दी है।

वही निरंतर बढ़ रहे कोरोना वायरस के बीच चुनाव आयोग ने उत्तराखंड में सभी दलों, नेताओं की फिजिकल रैलियों, रोड शो पर पाबंदी 31 जनवरी तक बढ़ा दी है। आयोग ने दलों व उम्मीदवारों को 1 फरवरी से 12 फरवरी के बीच जनसभाएं करने की अनुमति दी है। ये जनसभाएं खुले स्थान पर करनी होंगी, जिनमें ज्यादातर 500 या उस ग्राउंड की क्षमता के 50 प्रतिशत लोग ही सम्मिलित हो सकेंगे।

वहीं चुनाव आयोग ने डोर-टू-डोर प्रचार में भी राहत दी है। चुनाव आयोग ने अब 5 की जगह 10 व्यक्तियों के साथ डोर-टू-डोर प्रचार की इजाजत दे दी है। चुनाव आयोग की तरफ से जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार, कोई भी राजनैतिक दल या उम्मीदवार किसी भी खुले स्थान पर वीडियो वाहन की सहायता से प्रचार कर सकता है। यहां भी ज्यादातर 500 या उस मैदान की क्षमता के 50 प्रतिशत लोग ही सम्मिलित हो सकेंगे।

NCP सांसद अमोल कोल्हे ने फिल्म में निभाई 'गोडसे' की भूमिका, मचा बवाल

ओडिशा पंचायत चुनाव: 2.29 लाख से अधिक नामांकन पत्र दाखिल

कांग्रेस ने जितिन प्रसाद को भाजपा में जाने से क्यों नहीं रोका ?

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -