माँ का दिल: मरे हुए बेटे को लेकर पहुंची इंदौर से उज्जैन, आस थी की महाकाल जिन्दा कर देंगे

Aug 28 2018 12:35 PM
माँ का दिल: मरे हुए बेटे को लेकर पहुंची इंदौर से उज्जैन, आस थी की महाकाल जिन्दा कर देंगे

इंदौर: कहा जाता है दुनिया में माँ का स्थान भगवान से भी ऊपर होता है, भगवान सभी जगह नहीं जा सकता, इसीलिए उसने माँ बनाई जो अपने बच्चों की रक्षा के लिए किसी भी तकलीफ का सामना कर सकती है. ऐसा ही ममता का एक नज़ारा देखने में आया है मध्यप्रदेश के उज्जैन में. यहाँ एक माँ अपने मृत बेटे को ऑटो में बिठाकर इस आस में उज्जैन में ले आई है कि उज्जैन के महाकाल उसे फिर से जीवित कर देंगे.

शराब पी तो आपकी गाड़ी ही करेगी पुलिस से शिकायत

जिस ऑटो में बैठकर महिला उज्जैन आई है, उसी ऑटो चालक ने महिला की मनःस्थिति को समझते हुए इसकी सूचना पुलिस को दी. इससे पहले इंदौर की जिन्सी हाट निवासी महिला रीता ने अपने बेटे को बीमार बताते हुए ऑटो चालक शहजाद पिता तफजुल हुसैन से उज्जैन जाने की बात कही. ऑटो चालक के अनुसार महिला दोपहर तीन बजे उज्जैन पहुंची और रामघाट के समीप सिद्ध आश्रम के पास बैठ गई. ऑटो चालक ने उससे काफी मिन्नतें की. लेकिन वो रामघाट से उठने को तैयार नहीं हुई. जिसके बाद ऑटो चालक ने पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने रामघाट पहुंचकर मृतक बच्चे के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया, जिसमे पता चला कि उसे मरे हुए 24 घंटे से ऊपर हो चुके हैं.

लड़कियों के लिए मानसिक और भावनात्मक घाव है खतना : सुप्रीम कोर्ट

महिला रीता से पूछताछ करने पर उसने बताया कि उसके पूर्व पति सुधीर त्रिपाठी की मौत हो चुकी है, जिससे उसका बेटा अमित त्रिपाठी है. महिला ने बताया कि उसका दूसरा पति रिंकू उसे अपने बेटे से मिलने नहीं देता है. दोनों माँ-बेटे जिन्सी हाट में ही अलग-अलग रहते थे. सोमवार को जब अमित का कमरा काफी देर तक नहीं खुला तो पड़ोसियों को शक हुआ और उन्होंने उसकी माँ को बताया, जब अमित की माँ उसे देखने के लिए कमरे पर गई तो पाया कि अमित फर्श पर बेसुध पड़ा हुआ है. मृतक की माँ ने डॉक्टर को बताया कि उसका बेटा रात में शराब पीकर आया था, वहीँ डॉक्टरों का कहना है कि बीमारी अथवा कुछ जहरीला पदार्थ खाने के कारण युवक की मौत हुई है. रामघाट के एक नाविक ने बताया कि महिला अपने पति के साथ उज्जैन आया करती है और दोनों घंटों तक रामघाट पर बैठे रहते हैं.

खबरें और भी:-​

महिलाओं के खतना के खिलाफ दायर की हुई याचिका पर आज होगी सुनवाई

राफेल डील : अम्बानी ने ठोका 5000 करोड़ का मानहानि मुक़दमा

नेशनल ऑय डोनेशन फोर्टनाईट 2018 : दुनियाँ में सबसे ज्यादा नेत्रहीन भारत में, इस तरह बदले जा सकते है हालत

?