हत्याकांड के मुख्य आरोपी को मिला आजीवन कारावास, पूर्व नपा अध्यक्ष को उतारा था मौत के घाट

मंदसौर/ब्यूरो। पूर्व नपा अध्यक्ष प्रहलाद बंधवार हत्याकांड  में मंदसौर जिला कोर्ट ने फैसला सुना दिया है। जिला एवं सत्र न्यायालय ने मामले में सुनवाई करते हुए हत्याकांड के मुख्य आरोपी और पूर्व भाजपा कार्यकर्ता मनीष बैरागी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। वहीं एक अन्य आरोपी अजय जाट को बरी कर दिया है। दरअसल भाजपा नेता मनीष बैरागी ने जमीन के विवाद में 17 जनवरी 2019 को तत्कालीन नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की तीन गोली मारकर हत्या कर दी थी।

दरअसल  घर आयोजित शादी-समारोह में शामिल होने के लिए जा रहे थे। इस दौरान वे मित्र नई आबादी निवासी लोकेंद्र कुमावत की दुकान पर रुके। उन्होंने लोकेंद्र के नौकर को लिफाफा और 500 रुपए खुल्ले कराने भेजा। बंधवार दुकान के बाहर ही खड़े रहकर नौकर का इंतजार कर रहे थे। तभी बुलेट (सीआईयू 1834) पर सवार होकर एक अज्ञात युवक वहां पहुंचा। उसने नपाध्यक्ष की कनपटी पर बहुत ही करीब से नाइन एमएम पिस्टल से गोलियां दागी और बुलेट छोड़कर वहां से भाग गया। इसी दौरान वहां नयापुरा जैन मंदिर के पास निवासी दिनेश लोढ़ा पहुंचे। उन्होंने नपाध्यक्ष को पहचाना और ऑटो से उनको मंदसौर जिला अस्पताल पहुंचाया था, जहां मौत हो गई थी। जांच में पूर्व भाजपा कार्यकर्ता मनीष बैरागी का नाम सामने आया था। इसके बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया था।

पुलिस के अनुसार हत्या के पीछे कारण जमीन विवाद और रुपयों का लेन-देन था। बंधवार के चुनाव में मनीष बैरागी ने 5 लाख रुपए ब्याज पर लेकर खर्च किए थे। इसके बाद जब बंधवार चुनाव जीत गए तो मनीष ने उनसे रुपए वापस मांगे। इस पर नपाध्यक्ष ने पहले तो कुछ दिन में रुपए देने की बात कही लेकिन बाद में रुपए नहीं दिए। तभी से मनीष 5 लाख रुपए का ब्याज दे रहा था। इसके बाद नपाध्यक्ष ने एक बार रुपए मांगने पर उसकी गुमटियां हटवाने की भी धमकी दीं। इसी बात से मनीष नाराज चल रहा था। गुरुवार को भी वह रुपए मांगने नपाध्यक्ष के पास पहुंचा। यहां विवाद हुआ और उसने फायर कर दिया।

सावधान! हाथों और पैरों में दिखते हैं दिल की बीमारी के ये संकेत

शादी के 6 साल बाद बिपाशा-करण के घर आएगा नन्हा मेहमान

फिर दर्ज हुई आमिर खान के खिलाफ शिकायत, भारतीय सेना के अपमान का लगा आरोप

न्यूज ट्रैक वीडियो

Most Popular

- Sponsored Advert -