क्रूरता पर उतरा तालिबान, 13 मुस्लिमों को उतारा मौत के घाट, मृतकों में 17 वर्षीय लड़की भी शामिल

काबुल: अफगानिस्तान में सत्ता हथियाने के बाद आतंकी संगठन तालिबान अब देश में लोगों का नरसंहार कर रहा है. उसने हजारा मुस्लिम समुदाय के 13 लोगों को निर्दयता से मार डाला है. इनमें 17 वर्षीय एक लड़की भी शामिल है. ये घटना देश के सेंट्रल प्रांत के दायकुंडी की है. वैश्विक मानवाधिकार संगठन एमनेस्टी इंटरनेशनल ने इस संबंध में रिपोर्ट जारी की है. तालिबान के 300 आतंकियों का एक काफिला 30 अगस्त को खिद्र जिले में पहुंचा था और अफगान नेशनल सिक्योरिटी फोर्स (ANSF) के 11 पूर्व सदस्यों को मार डाला.

इनमें से 9 को पास के नदी बेसिन पर ले जाया गया, यहां सरेंडर करने के तुरंत बाद इनकी हत्या कर दी गई. तालिबान ने इलाके से भागने का प्रयास कर रहे अफगान बलों को निशाना बनाया, जिसमें दोनों तरफ से फायरिंग हुई. इसमें गोली लगने से एक नाबालिग लड़की की भी मौत हो गई. 20 साल के फयाज की भी गोली लगने से मौत हो गई. ANSF के जिन सदस्यों की हत्या की गई है, उनकी आयु 26 से 46 साल के बीच थी. मारे गए सभी लोग हजारा समुदाय से ताल्लुक रखते थे.

तालिबान ने अपने पहले शासनकाल के दौरान वर्ष 1996 और 2001 में भी इसी समुदाय के लोगों को बहुत प्रताड़ित किया था. एमनेस्टी ने मंगलवार को जारी की गई अपनी रिपोर्ट में बताया कि 15 अगस्त को अफगानिस्तान पर कब्जे से पहले तालिबान ने जुलाई माह में गजनी प्रांत में रहने वाले नौ लोगों को मौत के घाट उतार दिया था. बता दें कि हजारा मुस्लिम, अफगानिस्तान में रहने वाली शिया आबादी का बड़ा हिस्सा हैं. लेकिन आतंकी संगठन इन्हें लगातार निशाना बनाते रहते हैं.

पाकिस्तान की धार्मिक पार्टी ने की अफगान में तालिबान सरकार को मान्यता देने की मांग

जावेद अख्तर के खिलाफ दर्ज हुई FIR, क्या गिरफ्तार होंगे गीतकार ?

मस्जिद में धमाके के बाद भड़का तालिबान, ISIS के ठिकानों पर किया जोरदार हमला, कई आतंकी ढेर

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -