अब भी युद्धस्तर पर जारी है हिमस्खलन में दबे जवानों का सर्चिंग ऑपरेशन

शिमला : भारत-चीन सीमा से सटे शिपकिला के गांव नमज्ञा के साथ लगते डोगरी नाले में हिमखंड के नीचे दबे जम्मू-कश्मीर राइफल के पांच जवानों का अभी तक कोई सुराग नहीं लग पाया है। पिछले 72 घंटे से से अधिक समय से भारतीय सेना, आईटीबीपी, पुलिस और स्पेशल क्यूआरटी की टीम लापता जवानों की तलाश में युद्धस्तर पर जुटी हुई है। शनिवार सुबह से ही मौसम साफ रहने पर बड़े स्तर पर सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है।  

असम : जहरीली शराब पीने से अब तक 60 से ज्यादा लोगों की मौत, सरकार ने दिए जाँच के आदेश

लगातार जारी है सर्चिंग  

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार लापता जवानों की तलाश में सेना के करीब 200 जवान, आईटीबीपी की 17वीं वाहिनी के 30 जवान तैनात हैं। इसके अलावा मशीनों से भी खोजने का काम चल रहा है। एक स्निफर डॉग भी खोज के लिए लाया गया है। वहीं, जम्मू-कश्मीर की दो टीमें भी सर्च ऑपरेशन के लिए मौके पर मौजूद है। बता दें बुधवार सुबह गश्त पर निकले भारतीय सेना के छह जवान अचानक गिरे हिमखंड के नीचे दब गए थे। इनमें से हिमाचल के बिलासपुर जिले के जवान राकेश कुमार का शव बरामद कर लिया गया था, जबकि अन्य पांच जवानों को अभी तक कोई सुराग नहीं लग पाया है।

शूटिंग वर्ल्ड कप: पाक निशानेबाज़ों को भारत ने नहीं दिया वीज़ा, IOC ने उठाया बड़ा कदम

शहीद जवान का हुआ अंतिम संस्कार 

जानकारी के लिए बता दें हिमखंड की चपेट में आने से आईटीबीपी के भी पांच जवान जख्मी हुए थे। हिमखंड में दबे छह जवानों में से हिमाचल के एक जवान राकेश का पार्थिव शरीर शुक्रवार को उनके पैतृक निवास बिलासपुर जिले के शाहतलाई के घुमारपुर गांव में पहुंचा दिया गया। जहां उनका पूरे सम्मान के साथ अंतिम संस्कार हुआ। 

मोटोरोला के फोन पर 50 फीसदी की छूट, फ्लिपकार्ट सेल से ऐसे उठाएं फायदा

जम्मू कश्मीर: सुरक्षाबलों ने आतंकियों को घेरा, सुबह से एनकाउंटर जारी

चोरी के इरादे से आये बदमाशों से भीड़ गया युवक फिर चोरों किया जानलेवा हमला

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -