पीएम के राहत पैकेज पर क्या है उद्योगपतियों की राय ?

हर देश को कोरोना और लॉकडाउन की वजह से आर्थिकतौर पर जबरदस्‍त झटका लगा है. भारत में इसकी वजह करोड़ों लोग प्रभावित हुए हैं. इसको दोबारा से पटरी पर लाने के लिए सरकार की तरफ से आर्थिक पैकेज का एलान किया गया है जिसका उद्योग जगत से जुड़े तमाम लोगों ने दिल खोलकर स्‍वागत भी किया है.

Zee News के दफ्तर पर कोरोना का अटैक, 28 कर्मचारी निकले पॉजिटिव

आपकी जानकारी के​ लिए बता दे कि सन रिजोल्यूशन प्रोफेशनल प्राइवट लिमिटेड के संस्थापक रामचंद्र चौधरी सरकार द्वारा दिए गये पैकेज को रिफॉर्म पैकेज मानते हैं. यह पहल भारत को आत्मनिर्भर बनाने का सपना पूरा करने में सहायता करेगी. अगर हम प्रत्यक्ष लाभ की बात करें तो ये यह पैकेज के अनुपात में काफी कम है. लेकिन सराहनीय बात ये है की पैकेज में सभी क्षेत्रो को शामिल किया गया है. वितरण व्यवस्था सुचारु होने पर ही इस पैकेज का लाभ अंतिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति तक पहुंचेगा. कोरोना वाएरस का सबसे ज्‍यादा असर शहरी इलाको में हुआ है सरकार ने मनरेगा में आवंटन बढ़ाया ताकि जो शहर से पलायन कर रहे मजदूरों को रोजगार आसानी से मिल सके. 

दिल्ली में अरबों रुपए की जमीन पर रोहिंग्याओं का अवैध कब्ज़ा, आप MLA अमानतुल्लाह पर संरक्षण का आरोप

इसके अलावा उनका मानना हैं कि MSME को कोलेट्रल फ्री लोन स्कीम एक सराहनीय कदम है. इसका सबसे ज्‍यादा फायदा स्टार्टअप और दूसरी इकाइयों को होगा. इसके अलावा APMC ऐक्ट में सुधार भी बहुत ही साहसिक कदम है. उससे कृषि क्षेत्र को काफी फायदा मिलेगा. कंपनी एक्ट में सुधार, कोयला क्षेत्र में सुधार, टेंडर में स्वदेशी प्राथमिकता, बिजली कंपनी को भुगतान व्यवस्था,  MSME के लिए इ मार्केटिंग व्यवथा , हस्तांतरित मजदूरों को एक देश एक राशन कार्ड योजना से सभी वर्गों को फायदा होगा. हालांकि चौधरी दिवालिया प्रणाली कानून को एक साल तक निरस्त करने से सहमत नहीं हैं. 

क्या चीन के कोरोना फैलने के आरोप की जांच करने वाला है WHO ?

मध्यप्रदेश : इन जिलों में जारी रहने वाला है लॉकडाउन

पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा गिरफ्तार, राजघाट पर दे रहे थे धरना

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -