गणतंत्र दिवस पर अपने स्कूल या ऑफिस में आप भी दे सकते हैं यह भाषण

Jan 24 2020 08:20 PM
गणतंत्र दिवस पर अपने स्कूल या ऑफिस में आप भी दे सकते हैं यह भाषण

आप सभी को बता दें कि हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है। जी दरअसल 26 जनवरी के दिन सन् 1950 को भारत सरकार अधिनियम (एक्ट) (1935) को हटाकर भारत का संविधान लागू किया गया था। वहीं 26 जनवरी 1950 को सुबह 10 बजकर 18 मिनट पर भारत एक गणतंत्र बना और इसी के छह मिनट बाद 10 बजकर 24 मिनट पर राजेंद्र प्रसाद ने भारत के पहले राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली थी। कहा जाता है इस दिन पहली बार बतौर राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद बग्गी पर बैठकर राष्ट्रपति भवन से निकले थे और गणतंत्र दिवस के दिन राजपथ पर परेड होती है, साथ ही विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। ऐसे में आज हम आपके लिए एक दमदार भाषण लेकर आए हैं जो आप अपने स्कूल, ऑफिस या कहीं अन्य जगह पर दे सकते हैं।

पहला भाषण - आदरणीय शिक्षकों और मेरे प्यारे साथियों को सुप्रभात, आज गणतंत्र दिवस है और मैं आप सभी को इस दिन की शुभकामनाएं देता/देती हूं। हम सभी आज गणतंत्र दिवस मनाने के लिए एकत्र हुए हैं। गणतंत्र दिवस हर साल 26 जनवरी को मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन हमारे देश का संविधान लागू किया गया था। 26 जनवरी 1950 को हमारे देश भारत एक गणतंत्र देश बन गया। इस दिन की सबसे अच्छी बात यह है कि सभी जाति एवं वर्ग के लोग इसको एक साथ मिलकर मनाते हैं। भारत का संविधान एक लिखित संविधान है। हमारे संविधान को बनने में 2 साल 11 महीने और 18 दिन का समय लगा था। भारतीय संविधान दुनिया में सबसे बड़ा लिखित संविधान है। 26 जनवरी 1950 को डॉ। राजेन्द्र प्रसाद ने गवर्नमेंट हाउस के दरबार हॉल में भारत के पहले राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली थी। भारत के पहले गणतंत्र दिवस के मुख्य अतिथि इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकर्णो थे। गणतन्त्र (गण+तंत्र) का अर्थ है, जनता के द्वारा जनता के लिये शासन। आज के दिन स्वतंत्रता सेनानियों को याद करना बेहद जरूरी है, उन्‍हीं की बदौलत आज हम सब आजाद हैं। हमारे देश के महान नेताओं और स्वतंत्रता सेनानियों महात्मा गांधी, भगत सिंह, चन्द्रशेखर आजाद, लाला लाजपत राय, सरदार वल्लभ भाई पटेल, लाल बहादुर शास्त्री और अनगिनत देशभक्‍तोंं ने ब्रिटिश हुकूमत से लोहा लिया और अपनी जान की कुर्बानी देकर हमें आजादी दिलाई। भारत को एक आजाद देश बनाने के लिए इन लोगों ने अंग्रेजों के खिलाफ लगातार लड़ाई लड़ी। हम इन सभी स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान को भूल नहीं सकते। गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर तिरंगा फहराया जाता है। फिर राष्ट्रगान गाया जाता है और 21 तोपों की सलामी होती है। गणतंत्र दिवस के मौके पर अशोक चक्र और कीर्ति चक्र जैसे महत्वपूर्ण सम्मान दिए जाते हैं। इसके बाद हमारी सेना अपना शक्ति प्रदर्शन और परेड मार्च करती है। परेड में भारत की तीनों सेना- नौ सेना, थल सेना और वायु सेना की टुकड़ी शामिल होती हैं। परेड में तरह तरह की झांकियां दिखाई जाती हैं जो लोगों का मनोरंजन करती हैं। हमारे प्रथम राष्ट्रपति डॉ। राजेंद्र प्रसाद ने कहा था, ''हमने एक ही संविधान और संघ में हमारे पूर्ण महान और विशाल देश के अधिकार को पाया है। जो देश में रह रहे सभी पुरुषों और महिलाओं के कल्याण की जिम्मेदारी लेता है।'' यह बहुत ही शर्म की बात है कि आजादी के इतने वर्षों के बाद भी हम आज अपराध, भ्रष्टाचार और हिंसा जैसी समस्याओं से लड़ रहे हैं। अब समय आ गया है कि हमें दोबारा एक साथ मिलकर अपने देश से इन बुराइयों को बाहर निकाल फेंकना है जैसे कि स्वतंत्रता सेनानी नेताओं ने अंग्रेजों को हमारे देश से निकाल दिया था। हमें अपने भारत देश को एक सफल, विकसित और स्वच्छ देश बनाना होगा। हमें अपने भारत देश की गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा, ग्लोबल वार्मिंग, असमानता, आदि जैसे चीजों को अच्छी तरह समझना होगा और इनका हल निकालना होगा। आइये हम सब प्रतिज्ञा लेते हैं कि हम इसी तरह देश की एकता और अखंडता को बनाए रखेंगे और देश के विकास में बढ़-चढ़ कर योगदान देंगे। इसी के साथ में अपनी वाणी को विराम देना चाहूंगा। मेरे भाषण को सुनने के लिए आप सभी का धन्यवाद। जय हिंद।।

दूसरा भाषण - आप सभी को मेरी तरफ से सुप्रभात। मेरा नाम _____है। मैं____कक्षा …।।का छात्र या शिक्षक हूँ। हम सब जानते हैं हम सब आज यहाँ एक विशेष अवसर पर एकत्र हुए हैं। आज के दिन को हम भारत के गणतंत्र दिवस के नाम से जानते हैं। मैं आज के महान दिन पर आप सभी को भारत के गणतंत्र दिवस के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें बताना चाहती हूँ। सबसे पहले मैं आप सभी लोगों का शुक्रिया करना चाहती हूँ कि मुझे आप लोगों ने इस अद्भुत अवसर पर ये मौका दिया कि मैं यहां आपके सामने खडे होकर इस अवसर के बारे में और अपने प्यारे देश के विषय में कुछ शब्द बोल सकूं।देशभक्तों के त्याग, तपस्या और बलिदान की अमर कहानी 26 जनवरी का पर्व समेटे हुए है। उत्सर्ग और शौर्य का इतिहास भारत की भूमि पर पग-पग में अंकित है। किसी ने सच ही कहा है- कण-कण में सोया शहीद, पत्थर-पत्थर इतिहास है। 26 जनवरी हमारे देश के लिए बहुत खास दिन है। गणतन्त्र (गण+तंत्र) का अर्थ है, जनता के द्वारा जनता के लिये शासन। हमारे देश का संविधान 26 जनवरी 1950 को लागु हुआ था। 26 जनवरी 1950 को हमारे देश भारत एक गणतंत्र देश बन गया था। इस दिन की सबसे अच्छी बात यह है कि सभी जाति एवं वर्ग के लोग इसको एक साथ मिलकर मनाते हैं। आप सभी को पता होगा कि रिपब्लिक या गणतंत्र का मतलब क्या होता है। अपने राजनीतिक नेता को चुनने का अधिकार देश में लोगों के ऊपर होता है। भारत के महान स्वतंत्रता सेनानियों ने कड़ी मेहनत और संघर्ष के करके ही भारत को पूर्ण स्वराज दिलाया है। उन्होंने हमारे लिए बहुत कुछ किया है उसका ही नतीजा है कि आज हम अपने देश भारत में आराम से रह रहें है। भारत देश के कुछ महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानी नेताओं में इन महान नेताओं का नाम आता है। जैसे महात्मा गाँधी, भगत सिंह, चन्द्र शेखर आजाद, लाला लाजपत राय, सरदार बल्लभ भाई पटेल, लाल बहादुर शास्त्री इन स्वतंत्रता सेनानियों ने हमारे भारत देश को आजाद कराने के लिए अपनी जान भी न्यौछावर कर दी थी। और उनके इन महान कामों के लिए ही आज भी उनका नाम भारत देश के इतिहास में लिखा है। न ही सिर्फ लिखा ब्लकि आज भी देश का बच्चा बच्चा उनको याद करता है और उनके तरह बनना चाहता है। लगातार कई वर्षों तक इन महान लोगों ने ब्रिटिश सरकार का सामना किया और हमारे वतन को उनकी गुलामी से आज़ाद कराया। भारत वासी उनके इस बलिदान को कभी भी भुला नहीं सकते हैं। उन्ही के कारण आज हम अपने देश में आज़ादी से सांस ले रहे हैं। हमारे प्रथम राष्ट्रपति डॉ। राजेंद्र प्रसाद ने कहा था कि, ” हमने एक ही संविधान और संघ में हमारे पूर्ण महान और विशाल देश के अधिकार को पाया है। जो देश में रह रहे सभी पुरुषों और महिलाओं के कल्याण की जिम्मेदारी लेता है। यह बहुत ही शर्म की बात है कि आजादी के इतने वर्षों के बाद भी हम आज अपराध, भ्रष्टाचार और हिंसा जैसी समस्याओं से लड़ रहे हैं। अब समय आ गया है कि हमें दोबारा एक साथ मिलकर अपने देश से इन बुराइयों को बाहर निकाल फेंकना है जैसे कि स्वतंत्रता सेनानी नेताओं ने अंग्रेजों को हमारे देश से निकाल दिया था। हमें अपने भारत देश को एक सफल, विकसित और स्वच्छ देश बनाना होगा। हमें अपने भारत देश की गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा, ग्लोबल वार्मिंग, असमानता, आदि जैसे चीजों को अच्छी तरह समझना होगा और इनका हल निकालना होगा। आओ करे प्रतिज्ञा हम सब इस पावन गणतन्त्र दिवस पर, हम सब बापू के आदर्शों को अपनायेगे नया समाज बनायेंगे, भारत माँ के वीर सपूतों के बलिदानों को हम व्यर्थ न जानें देंगे, जाति ,धर्म के भेदभाव से ऊपर उठकर नया समाज बनायेंगे। मैं एक बार फिर आपको अपने भाषण को ध्यान से सुनने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं और मुझे आप सभी के सामने अपनी बात रखने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। और आपको भी बात करने का मौका देना चाहता हूं। जय हिन्द! वन्दे मातरम!”

गणतंत्र दिवस परेड में कुल्लू दशहरे की झलक को दिखाया जायेगा

गणतंत्र दिवस पर CAA प्रदर्शनों का साया, पीएम मोदी को भेजे जा रहे धमकी भरे पत्र

Republic Day: इस वजह से लंदन में उच्चायोग के बाहर जबरदस्त प्रदर्शन