सुप्रीम कोर्ट ने 24,713 करोड़ रुपये की अंतरिम राहत के लिए अमेजन की याचिका पर नोटिस किया जारी

Feb 22 2021 01:11 PM
सुप्रीम कोर्ट ने 24,713 करोड़ रुपये की अंतरिम राहत के लिए अमेजन की याचिका पर नोटिस किया जारी

नई दिल्ली: उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देते हुए अमेजन की याचिका पर एक नोटिस जारी कर अंतरिम राहत की मांग की, जिसने 24,713 करोड़ रुपये की रिलायंस-फ्यूचर डील को आगे बढ़ने की अनुमति दी। सुप्रीम कोर्ट ने नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) को विलय पर अंतिम आदेश पारित करने से भी रोक दिया।

न्यायमूर्ति आरएफ नरीमन की अध्यक्षता वाली पीठ ने मामले में फ्यूचर रिटेल और रिलायंस को नोटिस जारी किया। शीर्ष अदालत ने कहा कि नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल में कार्यवाही जारी रहेगी। शीर्ष अदालत ने यह भी देखा कि एनसीएलटी की कार्यवाही पर पूरी तरह से रोक लगाने की ओर इशारा करते हुए सुनवाई के दौरान यह पता चलता है कि क्या चल रहा है। लेकिन, इसने केवल इस योजना के अनुमोदन के संबंध में अंतिम आदेश पारित करने से अधिकरण को रोक दिया। 

फ्यूचर-रिलायंस रिटेल सौदे के खिलाफ अमेज़न ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था। 8 फरवरी को दिल्ली उच्च न्यायालय ने फ्यूचर रिटेल लिमिटेड और रिलायंस के बीच 24,713 करोड़ रुपये के सौदे पर एकल न्यायाधीश पीठ द्वारा आदेशित यथास्थिति के कार्यान्वयन पर रोक लगा दी थी। ई-कॉमर्स कंपनी ने इस दिल्ली उच्च न्यायालय डिवीजन बेंच के आदेश को चुनौती दी है, जिसने सौदे पर "यथास्थिति" के कार्यान्वयन को रोक दिया। अमेज़ॅन ने फ्यूचर और रिलायंस के बीच सौदे का विरोध किया है, और वह पहले ही इस पर सिंगापुर में अंतर्राष्ट्रीय मध्यस्थता जीत चुका है। ई-कॉमर्स की दिग्गज कंपनी ने भी भविष्य के किशोर बियानी के खिलाफ समझौते की अवहेलना करने के लिए उच्च न्यायालय का रुख किया था, जिसने रिलायंस के साथ किसी भी तरीके से निपटने पर रोक लगा दी थी।

सोने की कीमत में फिर आया निखार, यहाँ देखें गोल्ड के फ्यूचर प्राइस

पश्चिम बंगाल में पेट्रोल और डीजल का टैक्स घटा, जानिए क्या है आज के रेट

इस सप्ताह बाजार की चाल पर विश्लेषकों की जानें राय