जागरण के लिए निकले थे महंत पारस भारती, बीच में कर दिए गए गायब.., रास्ते में कार और कपड़े बरामद

जयपुर: राजस्थान के जालौर से दुधेश्वर महादेव मठ के महंत पारस भारती को अगवा किए जाने का मामला सामने आया है। महंत अपनी कार से जागरण के एक कार्यक्रम में जाने के लिए रवाना हुए थे। किन्तु रास्ते में वो कार से अचानक गायब हो गए। गुरुवार को उनकी कार में बदमाशों ने तोड़फोड़ की थी। वहीं महंत की कार में से उनके चप्पल और तौलिया बरामद हुआ है।

रिपोर्ट के अनुसार, जालौर जिले के अंतर्गत आने वाले वालेरा गाँव में दूधेश्वर महादेव का एक बड़ा धाम है और पारस भारती इसके महंत हैं। बताया जा रहा है कि महंत भारती गुरुवार की देर रात को जब कार्यक्रम में जाने के लिए रवाना हुए, तो रास्ते में बदमाशों ने हथियारों के बल पर उनकी गाड़ी को रोक दिया और उसमें तोड़फोड़ कर उन्हें किडनैप कर लिया। इस घटना को लेकर जिले के पुलिस अधीक्षक हर्षवर्धन अग्रवाल के अनुसार, महंत रात 9 बजे अपनी कार से बाहर निकले थे। वो अकेले ही थे। शुक्रवार को तड़के उनकी कार वालेरा गाँव के समीप काँखी रोड पर लावारिस हालत में बरामद हुई। गाड़ी का काँच पूरी तरह तोड़ दिए गए थे और मौके पर ही महंत भारती के चप्पल और कपड़े बिखरे हुए पड़े थे। स्थानीय लोगों ने सबसे पहले गाड़ी को देखा, जिसके बाद उन्होंने पुलिस को सूचित किया।

घटना के बाद से लोगों में आक्रोश देखा जा रहा है। महंत के किडनेपिंग की घटना के बाद बड़ी तादाद में साधु-संतों ने सायला थाने में विरोध प्रदर्शन किया और जल्द से जल्द महंत पारस भारती को बचाने की माँग की। इस बीच सायला थाने पहुँचे जिले के कलेक्टर निशांत जैन और पुलिस अधीक्षक ने संत को सुरक्षित बचाने का आश्वासन दिया है। इस बीच महंत की तलाश के लिए 6 थानों की पुलिस फोर्स को लगा दिया गया है। कई स्थानों पर बदमाशों की खोजबीन की जा रही है। खुद पुलिस अधीक्षक इसकी निगरानी कर रहे हैं।

यहाँ के मेयर ने मगरमच्छ को बनाया पत्नी, शादी में जुटे हजारों लोग

एक घर में मिले मगरमच्छ के दर्जन भर अंडे, 5 से निकले बच्चे

स्वास्थ संघठन ने कहा हमे कोविड बूस्टर्स को ओमिक्रोन सबवेरिएंट्स को लक्षित कर बनाना चाहिए

 

 

Most Popular

- Sponsored Advert -