कानपुर दौरे पर राष्ट्रपति: यदि कार से चलते तो बच जाते सैकड़ों पेड़

कानपुर: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अपनी पत्नी सविता कोविंद के साथ आज से कानपुर के दो दिवसीय दौरे पर है. उनके कार्यक्रम को लेकर पहली बार 10 हेलीपैड तैयार किया गया था. राष्ट्रपति चकेरी एयरफोर्स स्टेशन पर विशेष विमान से लैंड किया.  हरकोर्ट बटलर टेक्निकल यूनिवर्सिटी (HBTU) के शताब्दी समारोह में 25 नवंबर को शामिल होने के लिए आ रहे है राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अगर 3.6 किमी का सफर वाया रोड कर लेते तो शायद सैकड़ों पेड़ काटने से बच जाते। वेस्ट कैंपस में पांच हेलीपैड बनाने के लिए सैकड़ों पेड़ काट दिए गए हैं जबकि 3.6 किमी दूर ईस्ट कैंपस में पहले से ही हेलीपैड बने हुए हैं।

जहां इस बात का पता चला है कि कई बार यहां पर हेलीकॉप्टर से अतिथि भी आ चुके हैं। HBTU के सामने CSA में भी हेलीपैड हैं। वेस्ट कैंपस में जिस जगह हेलीपेड बने हैं, वहां विलायती बबूल, पीपल सहित सैकड़ों छायादार पेड़ थे। विवि के अधिकारी पेड़ काटने की अनुमति होने की बात बोल रहे है, लेकिन मामले में कोई खुलकर बोलने को तैयार नहीं है।

DFO अरविंद यादव ने बोला है  विलायती बबूल के पेड़ों को काटा जा रहा है, उनको काटने के लिए अनुमति की आवश्यकता नहीं है। कैंपस के आसपास रहने वाले लोगों ने कहा है कि यहां विलायती बबूल के साथ पीपल, बरगद और कई फलदार और छायादार पेड़ थे। जड़ों को सीमेेंटेड पत्थरों से छिपाया- पेड़ों को काटने  के उपरांत जड़ों को सीमेंटेड पत्थरों से छिपाया गया हुआ है। ऐसे में प्रश्न यह है कि अगर विलायती बबूल काटे गए हैं तो इनकी जड़ों को छिपाने की क्या आवश्यकता पड़ी। 

विलायती बबूल के हैं कई लाभ- पर्यावरण विशेषज्ञ डॉ. वाईके सिंह ने बोला है कि विलायती बबूल भी कार्बन डाई ऑक्साइड सोखने और ऑक्सीजन छोड़ने का कार्य करता है। इसकी दातून से मसूढ़े को मजबूत बनाने में कारगर है।  जिसके फल का उपयोग जोड़ो के दर्द की दवा बनाने में किया जाता है। 

 

'हमारी तो 700 डिमांड्स हैं , दिल्ली जाएंगे..', किसानों के अगले कदम पर बोले राकेश टिकैत

सीएम नीतीश से तेजस्वी का सवाल, बोले- 'बिहार में 30 हजार करोड़ के 76 घोटाले क्यों?'

भाजपा के डर से कांग्रेस ने अपने दफ्तर में लगाई 'सरदार पटेल' की तस्वीर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -