ओमिक्रॉन का BA.2 स्ट्रेन बढ़ा रहा चिंता, भारत समेत 40 देशों में फैला

कोविड-19 वायरस के ओमिक्रॉन वेरिएंट से वैसे ही दुनियाभर का हाल बेहाल है और अब इन सभी के बीच एक और आफत आ गई है। जी दरअसल, ब्रिटिश स्वास्थ्य अधिकारियों ने बीए.2 नाम के नवीनतम वेरिएंट को लेकर चेतावनी दे दी है। जी हाँ और इस वेरिएंट के सैकड़ों मामलों की विशेष रूप से पहचान की जा चुकी है, जबकि अंतरराष्ट्रीय डाटा का सुझाव है कि यह अपेक्षाकृत तेज़ी से फैल सकता है। जी दरअसल यूके स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी (UKHSA) ने इस महीने के पहले दस दिनों में ब्रिटेन में BA.2 के 400 से अधिक मामलों की पहचान की और संकेत दिया है कि करीब 40 अन्य देशों में भी ओमिक्रॉन के नए वेरिएंट का पता चला है।

वहीं इसके अंतर्गत भारत, डेनमार्क और स्वीडन जैसे कुछ देशों में आए सबसे हालिया मामलों में सब-वेरिएंट से जुड़े मरीजों की तादाद सबसे अधिक है। आपको बता दें कि यूकेएचएसए ने बीते शुक्रवार को यह संकेत दिया कि उसने ओमिक्रॉन के सब-वेरिएंट बीए.2 को जांच के तहत एक संस्करण (वीयूआई) के रूप में नामित किया था क्योंकि इसके मामले बढ़ रहे थे। हालांकि ब्रिटेन में इन दिनों आ रहे कोविड-19 के ज्यादातर मामलों की वजह BA.1 है। आपको हम यह भी बता दें कि ब्रिटिश अथॉरिटी ने रेखांकित किया कि “वायरल जीनोम में परिवर्तन के महत्व के बारे में अभी भी अनिश्चितता है,” जिसके लिए निगरानी की आवश्यकता है।

इन सभी के बीच, हाल के दिनों में मामलों पर नजर डालें, तो भारत और डेनमार्क में विशेष रूप से BA.2 केस में तेज वृद्धि देखी गई है। वहीं ओमिक्रॉन को कोरोना वायरस के विभिन्न स्वरूपों में सबसे खतरनाक माना जा रहा है। दूसरी तरफ विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने 26 नवंबर को इसे ‘चिंताजनक’ स्वरूप बताते हुए ओमिक्रॉन नाम दिया। ‘चिंताजनक स्वरूप’ डब्ल्यूएचओ की कोरोना वायरस के ज्यादा खतरनाक स्वरूपों की शीर्ष श्रेणी है। आपको हम यह भी बता दें कि कोरोना वायरस के डेल्टा वेरिएंट को भी इसी श्रेणी में रखा गया था।

इन राज्यों में खत्म हो रही है तीसरी लहर, तेजी से कम हो रहे मामले

सामने आया ओमिक्रॉन संक्रमण का एक और नया लक्षण, ठंड लगना भी है शामिल

अब कोहराम मचा रहा ओमिक्रॉन का BA.2 स्ट्रेन, मिले 53 मामले

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -