यहां पर पूरे राज्य में केवल 200 लोग है कोरोना से संक्रमित

Jul 03 2020 01:10 PM
यहां पर पूरे राज्य में केवल 200 लोग है कोरोना से संक्रमित

भारत में लाखों लोग कोरोना का शिकार बन चुके है. संक्र​मण की भयावह स्थिति ने सरकार को चिंता में डाल दिया है. वायरस की वजह से उत्तरी राज्यों में संक्रमण बेकाबू हो गया है. वही, अरुणाचल प्रदेश में कोरोना वायरस के 37 नए मामले सामने आए हैं. इसी के साथ राज्य में कोरोना वायरस मामलों की कुल संख्या  232 हो गई हैं, जिनमें 160 सक्रिय मामले हैं और अब तक 71 संक्रमित लोग ठीक हो गए हैं. वहीं राज्य में अब तक एक व्यक्ति ने वायरस से दम तोड़ दिया है.

डॉ असीम गुप्ता के परिजनों से मिलेंगे सीएम केजरीवाल, देंगे एक करोड़ की सम्मान राशि

अगर आपको नही पता तो बता दे कि भारत में संक्रमण का आंकड़ा 6 लाख के पार कुद गया है. लेकिन राहत की बात यह है कि, देश में कोरोना के एक्टिव केस के मुकाबले ठीक होने वालों की संख्या काफी अधिक है. बता दे कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी की गई जानकारी के अनुसार, देश में इस वक्त कोरोना वायरस के  227439  एक्टिव केस हैं. कुल संक्रमितों में से अब तक 379891 लोग ठीक हो चुके हैं. वहीं, कोरोना के कारण अब तक देश में 18213 लोगों की मौत हो चुकी है. गौरतलब है कि देश में कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाला राज्य महाराष्ट्र है. यहां संक्रमितों की संख्या एक लाख से अधिक है. महाराष्ट्र के साथ ही दिल्ली, राजस्थान, तेलंगाना जैसे राज्यों में भी कोरोना के हजारों मामले हैं.

स्कूल में छिपे ​​थे आतंकवादी, सुरक्षाबलों ने उतारा मौत के घाट

जल्द से जल्द वायरस की चपेट से बाहर निकलने के लिए हर देश वैक्सीन की तलाश कर रहा है. वैक्सीन की तलाश में भारत भी काफी आगे निकल चुका है. ऐसा माना जा रहा है. वही, भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) ने भारत बायोटेक को एक पत्र लिखकर मानव परीक्षण (Human Trial) को फास्क ट्रैक मोड से चलाने के लिए कहा है. आईसीएमआर ने पत्र में कहा कि भारत बायोटेक द्वारा कोरोना वैक्सीन के इंसानों पर परीक्षण के परिणाम 15 अगस्त तक जारी किए जाएंगे.

गोलियों की तड़तड़ाहट से गूँज उठा कानपुर, देर रात हुए एनकाउंटर में 8 पुलिसकर्मी शहीद

लद्दाख के इलाके में भारत भेज रहा अपना सबसे ताकतवर हथियार, भागते फिरेंगे चीनी सैनिक

कानपुर एनकाउंटर पर सख्त हुए सीएम योगी, बोले- पुलिसकर्मियों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा