+

BHU विवाद में फसा बेलूर कॉलेज, कहा- संस्कृत विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर नियुक्त की जाए..

BHU विवाद में फसा बेलूर कॉलेज, कहा- संस्कृत विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर नियुक्त की जाए..

कोलकाता: काफी समय से बीएचयू में चल रहे विवाद के बीच कोलकाता के बाहरी क्षेत्र में स्थित एक कॉलेज ने संस्कृत विभाग में एक मुस्लिम व्यक्ति को असिस्टेंट प्रोफेसर के रूप में नियुक्त किया है. यह नियुक्ति ऐसे वक्त की गई है, जब बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) में संस्कृत विभाग में एक मुस्लिम प्रोफेसर की नियुक्ति के खिलाफ छात्र विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. रमजान अली नाम के इस शख्स की नियुक्ति बेलूर के रामकृष्ण मिशन विद्यामंदिर में की जा चुकी है.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार रमजान के पास उत्तर बंगाल के एक कॉलेज में नौ साल पढ़ाने का अनुभव है. उन्होंने कहा कि वह छात्रों और विभाग के सदस्यों की ओर से किए गए गर्मजोशी भरे स्वागत से अभिभूत हैं. उन्होंने मंगलवार से कॉलेज में पढ़ाना शुरू किया. रमजान ने कहा, ‘प्रिंसिपल और अन्य सभी ने मेरा स्वागत किया. प्रिंसिपल ने कहा कि मेरी धार्मिक पहचान का कोई मतलब नहीं है. कुछ मायने रखता है तो वह है भाषा पर मेरी पकड़, उसे लेकर मेरा ज्ञान और इस ज्ञान को छात्रों के साथ 

साझा करने की मेरी क्षमता.’
संस्कृत सभी भाषाओं की मां

ऐसा माना जा रहा कि बीएचयू विवाद पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में रमजान ने कहा कि उनका मानना है कि संस्कृत भारत की विशिष्टता, उसकी समृद्ध संस्कृति का प्रतीक है. किसी को यह नहीं भूलना चाहिए कि संस्कृत सभी भाषाओं की मां है. बता दें कि, बीएचयू के संस्कृत विभाग में प्रोफेसर के तौर फिरोज खान की नियुक्ति का विभाग के छात्र विरोध कर रहे हैं. नियुक्ति के खिलाफ वे सड़कों पर उतर रहे है. 

देवरिया डीएम ने शख्स को मारा थप्पड़, ये है मामला

कश्मीर में घिरे बादल, गुलमर्ग और लाहौल-स्पीती में ताजा बर्फबारी के कारण मौसम सर्द

पति का क़त्ल कर किचन में दफनाया, उसी जगह पर एक महीने तक खाना बनाती रही पत्नी