फिल्मों में बिना ग्लिसरीन रोती थीं मीना कुमारी , शराब के नशे में डूबा दी जिंदगी

बॉलीवुड में कई दमदार फिल्मों में अपनी अदाकारी दिखा चुकीं दिग्गज एक्ट्रेस मीना कुमारी का जन्म आज ही के दिन हुआ था. जी हाँ, मीना का जन्म 1 अगस्त 1933 को हुआ था और केवल और केवल 6 साल की उम्र से ही उन्होंने फिल्मों में काम करना शुरू कर दिया. साल 1939 में मीना ने चाइल्ड एक्ट्रेस के तौर पर फिल्मों में काम करना शुरू किया और बैजू बावरा’, ‘दिल अपना और प्रीत पराई’, ‘साहब बीबी और गुलाम’ ‘पाकीजा’ जैसी सफल फिल्में देकर मीना ने सभी का दिल जीत लिया.

कहा जाता है ‘बैजू बावरा’ दर्शकों को इतनी पसंद आई कि 100 हफ्ते लगातार थियेटर में लगी थी. केवल यही नहीं बल्कि इस फिल्म के लिए मीना फिल्मफेयर अवॉर्ड से सम्मानित की गईं. कहा जाता है मीना कुमारी की फिल्मों के दुख भरे सीन में हमेशा उनके अपने आंसू होते थे. जी हाँ, वह कभी भी रोने के लिए ग्लिसरीन नहीं लेती थीं. खुद मीना की जिंदगी में इतना दुःख था कि वह फिल्मों में उन्हें ही याद कर रो लेती थीं. मीना कुमारी को ट्रेजडी क्वीन कहा जाता है क्योंकि उनकी जिंदगी में बहुत दुख थे, और सबसे ज्यादा दुख इस बात का था जिसे भी टूटकर चाहा वो उन्हें छोड़ गया. कहा जाता है मीना कुमारी ने फेमस फिल्म निर्देशक कमाल अमरोही को प्यार किया और वह प्यार में इतनी दीवानी हुईं कि अपने घरवालों से बगावत कर पहले से शादीशुदा कमाल से शादी कर ली.

हालाँकि शादी के करीब 12 साल बाद दोनों अलग हो गए. वैसे मीना ने अपने काम से लाखों लोगों का दिल जीता. मीना इतनी खूबसूरत थी कि स्टार्स उन्हें देखते ही रह जाते थे. मीना ने अपने आखिरी दिनों में खुद को शराब के हवाले कर दिया. शराब, दुःख के चलते मीना कम उम्र में दुनिया को अलविदा कह गईं. आपको बता दें कि मीना कुमारी का जब निधन हुआ तो वे महज 39 साल की ही थीं.

टीवी से बॉलीवुड तक में धमाल मचा चुकीं हैं मृणाल ठाकुर

मुंबई पुलिस पर गहना ने लगाया गंभीर आरोप, कहा- 'उन्होंने राज और एकता का नाम लेने के लिए कहा'

क्या कर रही है केरल की सरकार? लगातार पांचवें दिन मिले 20 हजार से अधिक केस

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -