बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व हताशा और कुंठा से ग्रसित- मायावती

बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व हताशा और कुंठा से ग्रसित- मायावती

पूर्वांचल दौरे की शुरुआत में उत्तर प्रदेश के बाद आज पश्चिम बंगाल का रुख कर चुके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हालिया गतिविधियों को लेकर बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कहा है कि पीएम की सक्रियता से लगता है आम चुनाव समय से पहले होगा. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जिस तरह से सक्रिय हैं, लगता है कि चुनाव इसी वर्ष संभव है. मायावती ने कहा कि इनमें काफी ज्यादा हताशा है. बीजेपी मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ व राजस्थान विधानसभा के साथ ही लोकसभा का चुनाव भी समय से पहले यानी इस साल के अंत तक करा सकती है. जम्मू-कश्मीर में महबूबा मुफ्ती सरकार गिराकर बीजेपी इसकी भूमिका पहले ही तैयार कर चुकी है.
उन्होंने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा आजमगढ़ व मिर्जापुर में दिए गए भाषण चुनावी जुगाड़ों वाला भ्रामक भाषण है.

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में "अटके, लटके व भटके" रहने वाली योजनाओं में बीजेपी का भी योगदान है. उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार अपनी असफलता को क्यों नहीं स्वीकारती है. पीएम नरेंद्र मोदी को थोड़ी ईमानदारी का सबूत देना चाहिए और जनता को स्पष्ट बताना चाहिए कि इतने लंबे समय के दौरान केंद्र व विभिन्न राज्यों में बीजेपी की सरकारी भी रही. इस मामले में कांग्रेस से बीजेपी की भूमिका कोई कम नहीं है. कर्नाटक में साम, दाम, दंड, भेद के बावजूद बीजेपी सरकार नहीं बना पाई. अब उसका शीर्ष नेतृत्व हताशा और कुंठा से ग्रसित है. मायावती ने कहा कि पीएम मोदी विकास का भ्रमित करने वाला राग छेड़ रहे हैं.

किसानों की फसलों के दाम बढ़ाने का क्रेडिट लेने आज पीएम ममता के गढ़ में

मायावती ने कहा कि मानसून सत्र आने वाला है, जहां नरेंद्र मोदी सरकार को अविश्वास प्रस्ताव का सामना करना है. इससे बचने के लिए बीजेपी ने पिछला बजट सत्र ही चलने नहीं दिया था. अब भी उसकी ऐसी नकारात्मक रणनीति दिखाई पड़ती है. लोकसभा की तरह राज्यसभा को भी जनहित, जनकल्याण व देश हित से दूर रखने का बीजेपी सरकार का प्रयास अति निंदनीय है. 

16 जुलाई सुबह की बड़ी ख़बरें

अब की बार इस फ़क़ीर को झोला देकर चलता ही करो: आप विधायक

 

?