पहले गाने के लिए कुणाल को मिले थे मात्र 1500 रुपए, लेकिन इस गाने ने बदल दी थी दुनिया

बॉलीवुड स्टार सिंगर्स कुणाल गांजावाला का जन्म आज ही के दिन यानि 14 अप्रैल 1972 को हुआ था। उन्होंने अधिकतर गाने हिंदी, कन्नड़ और मराठी भाषा में भी गाने गए चुके है। उन्हें पहचान मिली 2004 में आई मर्डर के गाने 'भीगे होंठ तेरे' से। यह उनकी पहली बड़ी हिट साबित हुई। इस गाने के लिए कुणाल को जी सिने अवॉर्ड का बेस्ट प्लेबैक सिंगर के पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है। आज उनके बर्थडे पर जानते हैं उनसे जुड़ी कुछ खास बातें।

कुणाल गांजावाला ने अपने करियर की शुुरुआत जिंगल गाने के साथ की थी। उन्होंने कई एड मूवी के लिए अपनी आवाज से सजाया है। एक साक्षत्कार में कुणाल ने कहा कि 'मैंने एक जिंगल गाया था- 'दूध-दूध', जिसके लिए मुझे 1500 रुपए मिले थे। वह मेरी पहली कमाई की थी। जिसके साथ ही 'साथिया' फिल्म का 'हम-दम सुनियो रे', 'कुछ-कुछ होता है' का 'कोई मिल गया' और 'सलाम-ए-इश्क' मूवी का टाइटल ट्रैक इनके पॉपुलर गाने भी शामिल है। 

कुणाल गांजावाला ने इस बारें में कहा है, 'कभी नहीं सोचा था कि मैं सिंगर बनूंगा। मैंने कोई ट्रेनिंग नहीं ली, न कभी किसी कॉम्पिटिशन में भाग लिया था। मुंबई के एलफिन्स्टन कॉलेज में फर्स्ट ईयर में था तब कुछ सीनियर्स ने रोका और रैगिंग के नाम पर गाना गाने के लिए बोला। मैं डरा हुआ था। मैंने जैसे-तैसे 'नजर के सामने' और 'इक दिन बिक जाएगा' गाने भी गए चुके है। वह मेरी आवाज से बहुत ज्यादा इंप्रेस हुए और मुझे कॉलेज के फेस्टिवल में गाना गाने को कहा। वहीं से मुझे लगा कि मैं गा भी सकता हूं।'

अपनी बात को जारी रखते हुए उन्होंने आगे कहा था कि, '1995 की बात है, मुझे स्टूडियो जाने के लिए रोज पुणे से अंधेरी रोजाना जाना पड़ जाता था। मैंने पापा से बोला कि बस-ट्रेन में बहुत ही ज्यादा परेशानी होती है, एक कार खरीद दीजिए। उन्होंने बोला- बेटा यदि मैंने दिला दी तो तुम कभी उसकी कीमत नहीं समझ पाओगे। खुद सेविंग करो और खरीदो। चार वर्ष की सेविंग्स के उपरांत 1999 में मैंने मारुति एस्टीम कार खरीदी। उस कार को खरीद कर जो खुशी मिली थी वह आज मर्सडीज में चलते हुए भी नहीं  मिल सकती थी। मैंने पापा से कहा- आप सही थे।'

जब उनसे पूछा गया कि अब उन्होंने गाना कम क्यों किया, इस पर उन्होंने बोला था 'मैंने हजार से ज्यादा गाने गाए, कई शो भी किए। चाहे क्रिकेट हो या बॉलीवुड इंडस्ट्री हो या कोई और इलाके, लोगों की च्वॉइस में परिवर्तन आ ही जाता है। किशोर कुमार आए तो रफी साहब को गाने मिलना कम हो गए लेकिन उनकी आवाज आज भी लोग पसंद करते हैं। मेरा भी दौर अब चला गया है।'

एक बार फिर काम करने के लिए एक साथ आए मोहित और विनोद

रिलीज हुआ फिल्म धाकड़ का पहला टीजर, एक्शन-मोड़ में दिखी कंगना

शनाया कपूर ने बिकिनी में शेयर की अपनी तस्वीर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -