'कहीं से कोई गलत नहीं हैं, क्या मेरे चुप हो जाने से आंदोलन खत्म हो जाएगा', बढ़ते विवाद पर बोले खान सर

पटना: आरआरबी एनटीपीसी (RRB NTPC) के रिजल्ट में धांधली के विरोध में बिहार और उत्तर प्रदेश में छात्रों का प्रदर्शन बुधवार को तीसरे दिन भी जारी रहा। आप सभी को बता दें कि यूपी के इलाहाबाद में छात्रों ने उग्र प्रदर्शन किया तो बिहार के गया जंक्शन पर आक्रोशित छात्रों ने ट्रेन में आग लगा दी। वहीं दूसरी तरफ हालात को काबू करने के लिए पुलिस को बल का प्रयोग करना पड़ा। आप सभी को बता दें कि इस दौरान छात्रों ने भी पुलिस पर पत्थर फेंके। जी दरअसल बिहार के पटना, नवादा, नालंदा, बक्सर, आरा सहित कई अन्य इलाकों में छात्रों ने कई स्थानों पर ट्रेनें रोक चुके हैं। वहीं दूसरी तरफ इस पूरे मामले में खान जीएस रिसर्च सेंटर कोचिंग के संचालक और यूट्यबर खान सर (Khan sir) समेत पटना (Patna) के कुछ कोचिंग संचालकों के नाम सामने आ रहे हैं। हालाँकि खान सर ने अब इस पर सफाई दी है।

सबसे पहले खान सर ने अपने ऊपर छात्रों को उकसाने के आरोप पर कहा, 'कुछ यूट्यबर कुछ भी बोल देते हैं। ये उनकी प्रॉब्लम है। हम लोग छात्रों को रोक रहे हैं। हमारे यूट्यब को एक सप्ताह से फ्रीज कर दिया गया है। हम यूट्यब पर जैसे ही किसी वीडियो में RRB लिख रहे हैं उसे डिलीट कर दिया जा रहा है।' आगे उन्होंने अपने बयान में कहा कि जयपुर के छात्र भी आंदोलन करने की बात कह रहे थे, हमने 26 जनवरी को देखते हुए सबको बंद कराया है।

इसी के साथ उन्होंने यह भी कहा कि, 'जो लोग मुझपर आरोप लगा रहे हैं उनसे यही कहना चाहता हूं कि क्या मेरे चुप हो जाने से आंदोलन खत्म हो जाएगा। पटना के डीएम साहब राजेंद्र नगर टर्मिनल का आंदोलन शांत कराने पहुंचे थे वहां उन्होंने खुद कहा है कि यह नेतृत्व विहीन आंदोलन है। तो इसमें खान सर कहां से आ जाते हैं। पटना के डीएम चंद्रशेखर बेहद सुलझे हुए इंसान हैं। उनका काम लॉ एंड ऑर्डर को मेंटेन करना है, वह अपने दायित्व को सौ फीसदी निभा रहे हैं। वह कहीं से कोई गलत नहीं हैं। कुछ जो गलत काम करेंगे उनपर ऐक्शन लेना होगा।'

इसके अलावा वह यह भी बोले- 'RRB को भी सोचना चाहिए कि एक टीचर गलत बोल सकता है, लेकिन पूरे हिन्दुस्तान के टीचर और स्टूडेंट गलत नहीं बोलेंगे। इस आंदोलन के उग्र होने के पीछे RRB का दूसर फैसला कारण रहा। NTPC के छात्र पटना राजेंद्र नगर टर्मिनल पर इंतजार कर रहे थे RRB उनके लिए अच्छा डिसीजन लेना। तीन बजे राजेंद्र नगर टर्मिनल पर 500 से 100 छात्र थे। रेलवे ने एक नोटिफिकेशन जारी किया जिसमें छात्रों को लगा कि रेलवे ने उनकी मांग सुन ली है। लेकिन उन नोटिफिकेशन में ये कहा गया कि जिन डेढ़ करोड़ स्टूडेंट्स ने ग्रुप डी का फॉर्म भरा है उनसे मेंस का एग्जाम लिया जाएगा। 2019 में नोटिफिकेशन निकला है, 15 फरवरी को कह रहे हैं कि मेंस का एग्जाम लेंगे, ऐसे में जो डेढ़ करोड़ स्टूडेंट्स घर में बैठे थे वह अन ऑर्गेनाइज्ड तरीके से रोड पर आ गए। RRB को सोचना चाहिए कि जब आप डेढ़ करोड़ स्टूडेंट्स को अचानक से उकसाएंगे तो क्या एक टीचर उन्हें कैसे रोक सकता है।'

क्या है खान सर का असली नाम, जानिए कितनी लेते हैं बच्चों से फीस?

जानिए कौन है छात्रों के 'हीरो' खान सर?

बुरे फंसे पटना वाले मशहूर खान सर, छात्रों के विरोध प्रदर्शन को लेकर कई संस्थाओं पर FIR

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -