कर्नाटक चुनाव: किसान पिता की जगह लेगा यूएस रिटर्न बेटा

कर्नाटक चुनाव: किसान पिता की जगह लेगा यूएस रिटर्न बेटा

बंगलुरु: कर्नाटक के मेलुकोटे से 68 वर्षीय विधायक केएस पुत्तनैया की पिछले वर्ष फरवरी में मौत हो गई थी, उनकी मौत पर मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा था कि किसान आंदोलन ने अपना बड़ा नेता खो दिया, एक ऐसा नेता जो जमीनी हकीकत को जानता और समझता था. अब जब चुनाव में उनकी जगह लेने की बारी आई तो समर्थकों ने एक मत से उनके बेटे दर्शन पुत्तनैया को चुना.

जब दर्शन से पूछा गया कि एक बड़े नेता का बेटा होने से चुनाव जीतना उनके लिए आसान होगा या मुश्किल? तो 40 वर्षीय दर्शन कहते हैं, 'उनका बेटा होने की वजह से मेरे लिए शुरुआत करना आसान है. लेकिन मुझे सिस्टम में रहते हुए काम करना होगा. मेरे पिता हमेशा अपने उसूलों पर टिके रहे जो कि आसान नहीं है. लेकिन मैं उनके नक्शेकदम पर चलने की कोशिश करूंगा.'

दर्शन के पिता मांड्या के मेलुकोटे से विधायक थे. वह कर्नाटक सर्वोदय पार्टी के नेता थे. केएस पुत्तनैया के राजनीतिक करियर की शुरुआत कर्नाटक राज्य रैठा संघ नाम की एक किसानों की संस्था से हुई थी. यह संस्था अब योगेंद्र यादव की स्वराज इंडिया पार्टी में मर्ज हो गई है. किसान नेता के बेटे दर्शन का कहना है कि वे पिछले 15 सालों से कर्नाटक में बसने की योजना बना रहे थे, लेकिन राजनीति में उतरने की उनकी मंशा नहीं थी. दरअसल कांग्रेस ने रविवार को 218 उम्मीदवारों की सूचि जारी की है, हालांकि कांग्रेस ने 5 सीटों पर उम्मीदवारों के नाम की घोषणा नहीं की है. इनमें से एक सीट मेलुकोटे है. सूत्रों ने इस सीट को लेकर सारी जानकारी दे दी है लेकिन दर्शन की राजनीति में एंट्री की पुष्टि नहीं की है.

कर्नाटक चुनाव : टिकट घमासान, सिद्धारमैया पर लगे आरोप

कर्नाटक चुनाव : भाजपा ने जारी की दूसरी सूची..

कर्नाटक में टिकिट नहीं मिलने पर कांग्रेस में बवाल, वीडियों देखें

 

क्रिकेट से जुडी ताजा खबर हासिल करने के लिए न्यूज़ ट्रैक को Facebook और Twitter पर फॉलो करे! क्रिकेट से जुडी ताजा खबरों के लिए डाउनलोड करें Hindi News App