वित्तीय संकट से जूझ रहा संयुक्त राष्ट्र, उचित समाधान की आवश्यकता - भारत

Jun 07 2019 02:07 PM
वित्तीय संकट से जूझ रहा संयुक्त राष्ट्र, उचित समाधान की आवश्यकता - भारत

वाशिंगटन:  भारत ने संयुक्त राष्ट्र की खराब आर्थिक स्थिति को वास्तविकता बताते हुए इसे सही करने के लिए विस्तृत समाधान निकालने की मांग की है. विभिन्न शांति अभियानों के बदले में संयुक्त राष्ट्र पर भारत का 3.80 करोड़ डॉलर बाकी है. यह संयुक्त राष्ट्र के ऊपर किसी भी देश के सबसे ज्यादा बकायों में से एक है.

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने संयुक्त राष्ट्र की आर्थिक स्थिति बेहतर करने से संबंधित अपनी रिपोर्ट में अप्रैल में इस बात को स्वीकार भी किया था. संयुक्त राष्ट्र में भारतीय राजदूत के उप स्थायी प्रतिनिधि नागराज नायडू ने संयुक्त राष्ट्र की आर्थिक हालात बेहतर करने को लेकर आयोजित किए गए एक कार्यक्रम के एक सत्र में कहा कि संयुक्त राष्ट्र शांति अभियान का वित्त वर्ष 30 जून को संपन्न होने वाला है. संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों को शांति अभियानों के बजट के लिये 1.9 अरब डॉलर और नियमित बजट के लिये 1.5 अरब डॉलर देना बाकि है.

उन्होंने कहा है कि भारत सहित कई अन्य देश जो शांति अभियानों के लिए सर्वाधिक जवान दे रहे हैं, समाप्त हो चुके शांति अभियानों के बदले में काफी समय से अपने वैध बकाये के भुगतान की मांग कर रहे हैं. नायडू ने कहा है कि, ‘‘हमारी अपेक्षा यह है कि समस्या पर चर्चा की जाए और इसे विस्तृत तरीके से दूर किया जाये.’’ 

दुबई बस हादसे में 17 लोगों की मौत, मृतकों में 8 भारतीय शामिल

रातों रात गायब हुआ 75 फीट लंबा और 56 टन वजनी ब्रिज, पुलिस महकमे में मचा हड़कंप

कश्मीरी युवाओं को नशे में उलझा रहा पाकिस्तान, सीमा पार से पहुंचा रहा ड्रग्स