भारत रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल के खिलाफ

नई दिल्ली : डबल एजेंट सर्गेई स्क्रिपाल और उसकी पुत्री यूलिया पर रासायनिक हमले की घटना के बाद रूस और ब्रिटेन के बीच चल रहे तनाव के दौरान भारत ने स्पष्ट कर दिया है कि वह रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल के खिलाफ है और इस मुद्दे का समाधान रासायनिक हथियार संधि के प्रावधानों के अनुरूप किया जाना चाहिए.

इस बारे में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि भारत कहीं भी, किसी के भी द्वारा, किसी भी स्थिति में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल किए जाने के खिलाफ है. भारत ने उम्मीद जाहिर की, कि मुद्दे का समाधान रासायनिक हथियार संधि के प्रावधानों के अनुरूप होगा.सीरिया के दुमा शहर में कथित रासायनिक हमले की खबरों के बीच कुमार ने कहा कि इस तरह के हथियारों का कहीं भी इस्तेमाल रासायनिक हथियार संधि के खिलाफ है और ऐसा करने करने वालों को जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए.

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच टेलीफोन पर हुई बातचीत के बारे में प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि उन्हें इस बारे में सूचना नहीं है कि दोनों नेताओं ने क्या बात की.स्मरण रहे कि इन दिनों डबल एजेंट सर्गेई स्क्रिपाल और उसकी पुत्री यूलिया पर रासायनिक हमले की खबर सुर्ख़ियों में है.

यह भी देखें

रूस तैयार रहो, मिसाइल्स आ रही है-ट्रंप

डाटा लीक: पीएम ने कहा भारत में रखे जाएं सोशल मीडिया के सर्वर

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -