'सरकार का पास आंकड़े न हों तो हमसे ले ले ..', आंदोलन में किसानों की मौत पर बोले राहुल गांधी

नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और लोकसभा सांसद राहुल गांधी ने किसान आंदोलन के दौरान मरे लोगों की जानकारी न होने के सरकार के बयान पर निशाना साधा है। संसद में सरकार की तरफ से दिए गए जवाब को लेकर कांग्रेस नेता ने कहा कि यदि सरकार चाहे तो हमसे आंकड़े ले सकती है। हमारे पास लिस्ट है कि किन किसानों की मौत हुई है। सरकार हमसे सूची ले और उन्हें मदद दे।

राहुल गांधी ने कहा कि सरकार का कहना है कि हमारे पास कोई रिकॉर्ड उपलब्ध नहीं है। लेकिन हमारे पास 503 किसानों का आंकड़ा है। सरकार चाहे तो हमसे सूची ले सकती है। पंजाब सरकार ने 403 किसानों के परिवानों को मुआवाजा प्रदान किया है। इसके अलावा 152 किसानों के परिजनों को पंजाब की कांग्रेस सरकार ने नौकरी भी दे दी है। राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी ने अगर माफी मांगी है, तो फिर किससे माफी मांगी है। एक ओर वह कहते हैं कि हम माफी मांगते हैं और दूसरी ओर कहते हैं कि हमें नहीं पता है कि कितने किसानों की मौत हुई है।

राहुल गांधी ने किसान आंदोलन के दौरान मरने वाले कुछ किसानों के नाम भी पढ़े और कहा कि सरकार हमसे पूरी सूची ले ले। उन्होंने कहा कि यह सरकार पूरी तरह से असंवेदनशील है। इनके पास तो कोरोना से मरने वालों के आंकड़े भी नहीं थे। राहुल गांधी ने कहा कि एक साल तक चले आंदोलन में मरने वाले किसानों के परिवार वालों को सरकार द्वारा मदद मिलनी चाहिए। गलत कानूनों को लागू करने के कारण ही इन 700 किसानों की मौत हुई है। खुद प्रधानमंत्री ने जब माफी मांग ली है तो फिर यह एक तरह से गलती मांगने जैसा है और उस गलती के लिए सरकार को मुआवजा प्रदान करना चाहिए।

विपक्षी दल अपने दम पर बीजेपी से नहीं लड़ सकते: दिनेश शर्मा

वाजिद अली शाह प्राणी उद्यान के 100 वर्ष हुए पूरे, समरोह में पहुंचकर सीएम योगी ने की इनसे मुलाकात

केरल में राज्यसभा की एक सीट के लिए उपचुनाव

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -