मासूम मोहब्बत की नृशंस हत्या

देश में आज भी इज्ज़त के नाम पर प्रेमी जोड़ों की बलि चढ़ाई जा रही है. ऑनर किलिंग के किस्से देश के लगभग हर कोने से सुनाई देते हैं. अपनों के हाथों, अपनों की हत्या के इस सिलसिले में एक और किस्सा जुड़ा उन दो मासूमों का, जो पड़ोस में रहते थे और रोजाना खिड़की से एक दूसरे को देखा करते थे. खुह्बू और योगेश नाम के इन प्रेमियों को खुशबू के परिवार ने मौत के घाट उतार दिया.

आखिरकार खुशबू और योगेश ने तय किया कि अब बाकी ज़िंदगी साथ बिताएंगे. योगेश और खुशबू ने 15 नवंबर 2017 को अपने घरवालों से अपने रिश्ते के बारे में बताया, पर घरवालों के रजामंद ना होने के कारण दोनों 16 नवंबर 2017 को घर से भाग गए रांची पहुंच गए. पर दोनों का साथ पूरी उम्र का नहीं था बल्कि केवल 3 दिनों का था. खुशबू के परिवारवालों ने उन्हें ढूंढ लिया और जबरन धनबाद ले आए. इसके बाद 19 नवंबर को प्रेमी योगेश की लाश रेलवे पटरी पर मिली. उसके घरवालों ने खुशबू के परिवार पर हत्या का इल्ज़ाम लगाया है. पर योगेश की हत्या के बाद खुशबू का अंजाम भी योगेश की तरह हुआ. 9 जनवरी 2018 को खुशबू की जली हुई लाश उसके मामा के घर के किचन से बरामद हुई.

मासूम मोहब्बत की नृशंस हत्या ने सबको झकझोर दिया है. पड़ोसियों का कहना है कि दोनों का अफेयर 3 साल से था. दोनों अपने-अपने घर की खिडकी से एक दूसरे को देर तक देखा करते थे. 

नाबालिग की हत्या खुद परिजनों ने की, जानिए क्यों

दिन दहाड़े युगल को चाकूओं से गोदा

पिता ने देखा बेटी को कमरे में प्रेमी के साथ, फिर

Most Popular

- Sponsored Advert -