मैं भगवान विष्णु का अवतार, दफ्तर नहीं आ सकता

गुजरात के वडोदरा में सरदार सरोवर निगम में काम करने वाले इंजीनियर रमेशचंद्र फेफरे पिछले 8 महीने से अपनी ड्यूटी पर नहीं गए हैं, जिसका कारण उन्होंने बताया है कि वो भगवान विष्णु के अवतार हैं. मामला बड़ा दिलचस्प हो गया है इंजीनियर रमेशचंद्र फेफरे इन दिनों चर्चा में है. जब सरदार सरोवर निगम से इन्हें नोटिस जारी किया गया, जिसके जवाब में उन्होंने कहा है कि वो भगवान विष्णु के अवतार हैं. चिट्ठी के जवाब में रमेशचंद्र की ओर से दलील दी गई है कि काम करने की वजह से उन्हें साधना करने में अड़चन आ रही है इसीलिए वह छुट्टी पर चले गए हैं. उनका कहना है कि वही राम और कृष्ण भी थे, साथ ही वह अपनी मां को अहिल्याबाई बता रहे हैं, तो पत्नी को लक्ष्मी का अवतार बता रहे हैं.

विभाग के जरिये भेजे गए नोटिस का जवाब देते हुए उन्होंने कहा है कि वो वैश्विक चेतना और बारिश के लिए साधना में तल्लीन हैं. इसी वजह से वह भौतिक रूप से दफ्तर में हाजिर नहीं हो सकते. पिछले 8 महीने में रमेशचंद्र ने सिर्फ 15 दिन हाजिरी लगाई है. नोटिस के जवाब में उन्होंने ये भी लिखा है कि उनकी साधना की वजह से ही पिछले कुछ साल से अच्छी बारिश हो रही है और खुद को विष्णु अवतार बताने की वजह से ही यह मुमकिन हो पाया है.

उनका दावा है कि 16 सितम्बर 2016 से दुनिया में एक बार फिर सतयुग की शुरुआत हो गयी है ऐसे में अब वो दफ्तर नहीं आ सकते. रमेशचंद्र के इन जवाबों ने IPS अधिकारी डीके पांडा की याद दिला दी, जो खुद को राधा का अवतार बता कर चर्चा में आए थे. पांडा ने तो साड़ी से लेकर महिला का वेश धारण कर लिया था. डीके पांडा 1971 बैच के आईपीएस अफसर हैं और यूपी पुलिस में IG के पद पर रहते उन्होंने इस्तीफा दिया था.

 

पानी भरवाने के लिए यहाँ लड़के करते हैं दूसरी शादी

ये गाना सुन कोमा से बाहर आईं लड़की

ऐसा रेस्टोरेंट जहाँ बंदर करते हैं सारा काम और वो भी बिना सैलरी के

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -