कश्मीर में हो रही पत्थरबाजी के लिए गिलानी के गुर्गो को दिया जाता है 500 रुपए

श्रीनगर : एक आतंकी की मौत के बाद से कश्मीर की घाटी में छिड़ी हिंसा में एक नया खुलासा हुआ है। ऐसे कई खुलासे हुए है, जिससे पाकिस्तान का चेहरा बेनकाब हो गया है। इससे अलगाव वादियों द्वारा रची गई साजिशें भी सामने आ रही है। जम्मू-कश्मीर पुलिस के हाथों एक वीडियो लगा है, जिससे पता चलता है कि सेना पर पत्थरबाजी करने के लिए लड़कों को किराए पर लाया जाता है।

इससे यह भी पता चलता है कि पाकिस्तान साजिशों को अंजाम देने के लिए हर साल करोड़ों रुपए के फंड आतंकियों को भेजता है। पत्थर फेंकने वाले आरोपी ने बताया कि उन्हें अलगाववादी नेता गिलानवी के लोग प्रति दिन के हिसाब से 500 रुपए दिए जाते है। इससे खुद को कश्मीरियों का हमदर्द बताने वाले अलगाववादियों का भी असली चेहरा सामने आया है।

इससे पता चलता है कि कैसे युवाओं में भारत के खिलाफ नफरत का जहर भरा जा रहा है। उन्हें हिंसा की आग में झोंका जा रहा है। हाल में हुए पत्थर की साजिश पाकिस्तान द्वारा रचे जाने के सबूत मिले है। अलगाववादी ने जो पैसे पत्थर फेंकने वाले नौजवानों के बीच बांटे, वो पैसे पाकिस्तान से ही आए थे। सूत्रों का कहना है कि हवाला के जरिए पाकिस्तान से 60 करोड़ रुपए कश्मीर आए है।

आईएसआई इन पैसों से घाटी में माहौल खराब करने में जुटा है। पैसे को भेजने के लिए जमात-उद-दावा के चीफ हाफिज सईद और हिजबुल प्रमुख सलाउद्दीन के नेटवर्क का इस्तेमाल किया गया। खबर है कि खुफिया विभाग ने आतंकियों और पाकिस्तानी हैंडलरों के बीच की बातचीत को भी इंटरसेप्ट किया है।

एक ओर पाकिस्तान खुद आतंकियों को पनाह दे रहा है, तो दूसरी ओर संयुक्त राष्ट्र जैसे अंतर्राष्ट्रीय मंच पर जाकर मानवाधिकार की गुहार लगा रहा है। यूएन में पाकिस्तान की कमिश्नर मलीहा लोधी ने बुरहान को कश्मीर का नेता और उसकी मौत को एक्स्ट्रा ज्यूडिशियल किलिंग बताया था।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -