इस दिन से बिलासपुर और भोपाल के बीच शुरू की जाएगी उड़ान सेवा

बिलासपुर: अंचलवासियों के लिए अच्छी खबर सुनने के लिए मिली  है। बिलासा एयरपोर्ट से हवाई सुविधाओं के विस्तार को अब पंख लगते हुए दिखाई दे रहे है। शुरुआत बिलासपुर से भोपाल हवाई सुविधाओं में विस्तार से होने लगी है। बिलासपुर से भोपाल के बीच अब हफ्ते में 4 दिन हवाई सुविधा का लाभ अंचलवासियों को मिलने वाला है। एयरपोर्ट अथारिटी आफ इंडिया पांच जून से बिलासपुर से भोपाल के बीच उड़ान को अनुमति प्रदान कर दी है। बिलासा एयरपोर्ट प्रबंधन ने इसकी तैयारी शुरू कर चुके है। हवाई सुविधा में विस्तार को लेकर इसे महत्वपूर्ण शुरुआत कही जा रही है।

बिलासपुर से भोपाल के मध्य सप्ताह में चार दिन हवाई सुविधाएं दी जाने वाली है। सोमवार, मंगलवार, बुधवार और गुरुवार को बिलासपुर से भोपाल के लिए बिलासा एयरपोट्र से प्लेन रवाना होने वाला है। विमानन कंपनी और केंद्रीय नागर विमानन मंत्रालय इसे तय कर सकते है। बिलासा एयरपोर्ट से सुबह 11.30 बजे भोपाल के लिए उड़ान होने वाली है। बिलासा एयरपोर्ट प्रबंधन से मिली जानकारी के मुताबिक केंद्रीय नागर विमानन मंत्रालय से मिली मंजूरी के बाद उड़ान को लेकर शैड्यूल जारी भी पेश कर दिया है। तीन जून को विमान भोपाल से उड़ान भकर बिलासपुर पहुंचने वाली है।

एक दिन का पूरा ठहराव एयरपोर्ट पर ही रहने वाला है। पांच जून को सुबह 11.30 बजे भोपाल के लिए एयरपोर्ट से उड़ान की शुरुआत हो जाएगी। जारी टाइम टेबल के अनुसार भोपाल से उड़ान भरकर विमान 3.45 बजे बिलासा एयरपोर्ट पर पहुंचने वाला है। शाम 4.15 बजे जबलपुर के लिए उड़ान भर सकता है। बिलासा एयरपोर्ट से वर्तमान में बिलासपुर से दिल्ली जबलपुर और दिल्ली प्रयागराज और बिलासपुर के लिए घरेलू उड़ान की सुविधाएं भी दी जा रही है। एलायंस एयर कंपनी द्वारा यह सुविधा दी जा रही है।

 

फोर सी श्रेणी के लिए यह काम है जरूरी: बिलासा एयरपोर्ट को थ्री सी से फोर सी श्रेणी में उन्नयन के लिए एयरपोर्ट में तकनीकी कार्यों के साथ साथ जमीन की आवश्यकता भी है। एयरपोर्ट में रनवे विस्तार के लिए अभी भी 270 एकड़ जमीन की जरूरत है। यह जमीन वर्तमान में सेना के कब्जे में है। चकरभाठा बेसकैंट के लिए राज्य शासन ने सैन्य मंत्रालय को चकरभाठा, धमनी सहित आसपास के 8 गांव के किसानों और अपनी कुल 1173 एकड़ जमीन का आवंटन भी कर दिया है। सैन्य मंत्रालय ने बेसकैंट का निर्माण प्रारंभ अब तक नहीं कर पाए है। जब तक 270 एकड़ जमीन सेना नहीं मिलेगी रनवे विस्तार का कार्य पूरा नहीं हो सका है। फोर सी श्रेणी के एयरपोर्ट के उन्न्यन के लिए रनवे विस्तार का कार्य आवश्यक है। रनवे का विस्तार 1490 मीटर से 2885 मीटर तक करने की योजना एयरपोर्ट प्रबंधन ने बनाई है।

 

'मुस्लिमों को आतंकी बनाता है PFI, अल-क़ायदा से हैं संबंध...', सूफी बोर्ड ने की बैन लगाने की मांग

स्टेडियम में जीतकर मुंबई की जीत की प्रार्थना करेंगे कोहली, क्योंकि यदि दिल्ली जीती तो...

गेंहू भेजने को लेकर भारत से खुश हुआ मिस्त्र, अब 12 अन्य देशों ने भी की मांग

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -