चुनाव का बहिष्कार करने वाले बयान पर भाजपा ने फारुख अब्दुल्ला को घेरा

चुनाव का बहिष्कार करने वाले बयान पर भाजपा ने फारुख अब्दुल्ला को घेरा

श्रीनगर: भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के महासचिव राम माधव ने रविवार को नेशनल कॉन्फ्रेंस (एनसी) के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला की आलोचना करते हुए कहा कि अब्दुल्ला जम्मू में पंचायत और शहरी स्थानीय निकाय चुनाव से पहले पार्टी राजनीति खेल रहे हैं.  माधव ने ये भी कहा कि कश्मीरी नेता नहीं चाहता कि उनके राज्य के लोग लोकतांत्रिक अधिकारों का लाभ उठा सकें. पंचायत चुनावों का बहिष्कार करने की अपनी पार्टी की योजनाओं की घोषणा करने के बाद, अब्दुल्ला ने शनिवार को लोकसभा और विधानसभा चुनावों का बहिष्कार करने की धमकी दी थी, उन्होंने कहा था कि अगर केंद्र अनुच्छेद 35 ए और 370 की रक्षा करने पर अपनी राय स्पष्ट नहीं करता है, तो पार्टी लोकसभा और विधानसभा चुनाव का बहिष्कार करेगी.

नकवी ने कांग्रेस को बताया भ्रष्टाचार का डूबता हुआ जहाज़, कहा कांग्रेस का साथ देने वाला भी डूबेगा

एनसी प्रमुख की धमकी पर प्रतिक्रिया देते हुए माधव ने कहा, जम्मू कश्मीर के लोगों को उनके अधिकार दिलाने के लिए हम घाटी में पंचायत चुनाव कराना चाहते हैं. लेकिन फारूक अब्दुल्ला ने हमेशा पार्टी की राजनीति की है और लोगों के लोकतांत्रिक अधिकार सुनिश्चित करने के प्रयास कभी नहीं किए हैं, अब जब प्रधान मंत्री मोदी ऐसा कर रहे हैं तो वह बहाने से इसका विरोध कर रहा है." उन्होंने कहा, "मैं फारूक अब्दुल्ला से पूछना चाहता हूं कि अगर वे अनुच्छेद 35 ए के कारण पंचायत चुनाव का विरोध कर रहा है, तो उन्होंने कारगिल में चुनाव क्यों लड़ा और 10 सीटें कैसे जीत लीं? ये सिर्फ बहाने हैं." 

बिहार में क़ानून व्यवस्था समाप्त हो चुकी है- तेजस्वी यादव

आपको बता दें कि शनिवार को अपने पिता स्वर्गीय शेख मोहम्मद अब्दुल्ला की मौत की सालगिरह के दौरान एक समारोह को संबोधित करते हुए जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला ने कहा कि, "हम न केवल पंचायत चुनावों का बहिष्कार करेंगे बल्कि लोकसभा और विधानसभा चुनाव का भी बहिष्कार करेंगे यदि केंद्र अनुच्छेद 35 ए और अनुच्छेद 370 पर अपना स्टैंड स्पष्ट नहीं करता है."  वहीं इस विषय पर नेशनल पैंथर्स पार्टी के नेता भीम सिंह ने कहा है कि मैं जम्मू कश्मीर से ही आया हूँ और अब्दुल्ला सरकार के दौरान विधायक भी रहा हूँ. भीम सिंह ने कहा कि अगर अब्दुल्लाह चुनाव नहीं लड़ेंगे तो इससे कोई अंतर पड़ने वाला नहीं है, मुझे कम से कम हज़ार पात्र ऐसे मिले हैं, जिसमे लोगों ने गुजारिश की है कि एनसी पार्टी को चुनाव न लड़ने दिया जाए. उन्होंने कहा कि अगर अब्दुल्लाह चुनाव नहीं लड़ते हैं तो ये जम्मू कश्मीर के लोगों के लिए अच्छा ही होगा. 

खबरें और भी:-​

भारत बंद पर TMC का रुख अपने आप में विरोधाभासी : कांग्रेस

केरल नन रेप केस: विधायक ने बताया नन को वेश्या, एनसीडब्ल्यू ने की कार्यवाही की मांग

बीजेपी की कार्यकारिणी बैठक में गरजे अमित शाह, कहा भाजपा को कोई पराजित नहीं कर सकता

?