दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में स्मॉग की परत

नई दिल्ली: दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में आंखों के चुभने वाले कोहरे की परत शुक्रवार को बढ़ गई, जिससे नवंबर के शुरू से ही खतरनाक प्रदूषण के स्तर से जूझ रहे दिल्लीकी दृश्यता 200 मीटर तक कम हो गई । दिवाली के बाद पिछले सात दिनों में से पांच पर दिल्ली की हवा की गुणवत्ता खराब हुई है।

दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (डीपीसीसी) द्वारा किए गए एक अध्ययन के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी की वायु गुणवत्ता 1 नवंबर से 15 नवंबर के बीच  सबसे खराब है। सुबह 9 बजे शहर का एयर क्वालिटी इंडेक्स 454 रहा। गुरुवार को 24 घंटे का औसत एक्यूआई 411 था ।

सुबह 9 बजे में, फरीदाबाद (452), गाजियाबाद (490), ग्रेटर नोएडा (476), गुरुग्राम (418) और नोएडा (434) में भी गंभीर वायु गुणवत्ता देखी गई। शून्य से  50 के  वायु गुणवत्ता सूचकांक "उत्कृष्ट माना जाता है,"51  से 100 "स्वीकार्य माना जाता है," 101 से 200"मध्यम माना जाता है," 201 से 300  "ख़राब  माना जाता है," 301  से 400  "बहुत ख़राब  माना जाता है," और 401  से 500  "गंभीर माना जाता है." 
केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार, दिल्ली-एनसीआर में पीएम 2.5 के नाम से जाने जाने वाले फेफड़ों को नुकसान पहुंचाने वाले छोटे कणों की 24 घंटे की औसत सांद्रता 346  माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर थी, जो 60 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर की स्वीकार्य सीमा से छह गुना अधिक है ।

क्या है निमोनिया के लक्षण? जानिए इससे बचने के 5 असरदार घरेलू उपाय

बंगाल में एक युवक ने खा लिया जहर, कारण- 4 प्रेमिकाएं एक साथ पहुँच गई थी घर

देश के कई राज्यों में मंडराया संकट, कहीं बारिश तो कहीं बर्फबारी की आफ

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -