एलीट कोबरा कमांडो बटालियन में महिला कर्मियों को शामिल करने पर विचार कर रही सीआरपीएफ

By Nikki Chouhan
Jan 21 2021 05:43 PM
एलीट कोबरा कमांडो बटालियन में महिला कर्मियों को शामिल करने पर विचार कर रही सीआरपीएफ

नई दिल्ली: सीआरपीएफ अपने विशेष जंगल युद्ध कमांडो फोर्स कोबरा में महिला कर्मियों को शामिल करने पर विचार कर रही है। इस बयान की पुष्टि फोर्स चीफ एपी माहेश्वरी ने की है।

2009 में सीआरपीएफ के तहत 12,000 से अधिक कर्मियों के साथ खुफिया आधारित जंगल युद्ध अभियान शुरू करने के लिए दृढ़ कार्रवाई इकाइयों के लिए दस कमांडो बटालियन का गठन किया गया था। फोर्स चीफ ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान यह भी कहा, हम कोबरा में महिलाओं को शामिल करने पर कृपापूर्वक विचार कर रहे हैं। कोबरा एक विशेष बल है कि विशेष रूप से गुरिल्ला/जंगल युद्ध प्रकार के संचालन के लिए उठाया जाता है। वे चरमपंथियों और विद्रोहियों आदि से निपटने के लिए हैं और इसीलिए उन्हें 'जंगल वॉरियर्स' के नाम से भी जाना जाता है। इन कर्मियों का चयन सीआरपीएफ के जवानों में से किया जाता है और उनकी पहचान साहस, जोश और देशभक्ति है। कोबरा की अधिकांश टीमें भारत के विभिन्न नक्सल हिंसा प्रभावित राज्यों में तैनात हैं। उनमें से कुछ विद्रोह विरोधी अभियानों के तहत पूर्वोत्तर राज्यों में आधारित हैं। कोबरा इकाइयों में शामिल सैनिकों को अपने अस्तित्व के लिए कठिन मानसिक और शारीरिक मापदंडों को पूरा करना होगा।

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, सीआरपीएफ के पास 1986 से पहले महिला कर्मी थीं, जब इसकी पहली 'महिला बटालियन' उठाई गई थी। इसमें वर्तमान में ऐसी छह इकाइयां हैं। लगभग 3.25 लाख कर्मियों की ताकत वाला यह बल देश का सबसे बड़ा अर्धसैनिक बल है और इसे प्रमुख आंतरिक सुरक्षा लड़ाकू इकाई के रूप में नामित किया गया है।

केरल विधानसभा ने अध्यक्ष पी श्रीरामकृष्णन को हटाने की मांग के प्रस्ताव को किया खारिज

सीरम इंस्टीट्यूट में लगी भयंकर आग, जहां की जा रही थी कोविड वैक्सीन तैयार, वहां हुआ ये हाल

महाराष्ट्र नगर निकाय में कांग्रेस को विपक्ष की सीट मिलने पर सुप्रीम कोर्ट ने मांगा जवाब