Coronavirus: प्रयागराज के डॉ का बेटा भी हुआ कोरोना संक्रमित

Coronavirus: प्रयागराज के डॉ का बेटा भी हुआ कोरोना संक्रमित

प्रयागराज: एकाएक बढ़ा ही जा रहा कोरोना का प्रकोप आज पूरी दुनिया के लिए महामारी का रूप लेता रहा है. वही  इस वायरस की चपेट में आने से अब तक 30000 से अधिक मौते हो चुकी है. लेकिन अब भी यह मौत का खेल थमा नहीं है. इस वायरस ने आज पूरी दुनिया को हिला कर रख दिया है. कई देशों के अस्पतालों में बेड भी नहीं बचे है तो कही खुद डॉ. इस वायरस का शिकार बनते जा रहें है. वहीं यह भी कहा जा रहा है कि मंडल के एक चिकित्साधिकारी के बेटे को कोरोना का संक्रमण होने की आशंका है. उसे बेली अस्पताल में भर्ती कराया गया है और जांच के लिए नमूना लखनऊ भेजा गया है. वह 11 दिन पहले लंदन से लौटा था. चिकित्साधिकारी के बेटे का मामला सामने आते ही स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है. प्रशासन के भी हाथ-पांव इस बात को लेकर फूले हुए हैं कि आखिर चिकित्साधिकारी के बेटे को आइसोलेट क्यों नहीं किया गया. 

मिली जानकरी के अनुसार अल्लापुर के रहने वाले चिकित्साधिकारी वर्तमान में यहीं पर तैनात हैं. उनका बेटा लंदन में रहकर पढ़ाई कर रहा है. लंदन में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए वह यहां अपने घर चला आया. वहीं इस बात का पता चला है कि बीते शनिवार से उसकी तबीयत खराब हुई. उसे जुकाम, बुखार के साथ सांस लेने में दिक्कत हुई तो रविवार को स्वास्थ्य अधिकारियों को इसकी सूचना दी गई. चिकित्साधिकारी के बेटे को एंबुलेंस द्वारा बेली अस्पताल लाकर कोरोना आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है.

सूत्रों का कहना है कि कोरोना के नोडल इंचार्ज डॉ. ने कहा कि जांच के लिए उसका नमूना लखनऊ भेजा गया है. चिकित्साधिकारी के साथ घर के सभी सदस्यों को आइसोलेट कर दिया गया है. कहा गया है कि घर के सभी सदस्य एक-दूसरे से दूरी बनाए रखें. जिले में इसके पहले भी विदेश से आने वाले 10 लोगों की जांच के नमूने भेजे जा चुके हैं, लेकिन सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई है.

घर के लिए पैदल निकले युवक की हुई मौत, तीन बच्चों की थी जिम्मेदारी

वॉक के बहाने रफूचक्कर होना चाहता था कोरोना पॉजिटिव, जानें क्या हुआ आगे

अगर संदिग्ध या पॉजिटिव ने किया आइसोलेशन में जाने से मना तो, होगा ऐसा हाल