स्टेज-3 को पार कर सकता है कोरोना वायरस

 

भारत में कोविड-19 के केस चरम तक पहुंच गए हैं. स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआइ) की एक रिपोर्ट के मुताबिक पूरे विश्व में सामान्यतया 75 प्रतिशत रिकवरी की दर के पश्चात कोरोना के केस घटने का ट्रेंड देखा गया है. भारत में रिकवरी की दर 73 प्रतिशत तक पहुंच गई है. रिकवरी की यह दर को पार करने वाले पांच प्रदेश दिल्ली, तमिलनाडु, गुजरात, जम्मू-कश्मीर और त्रिपुरा कोरोना के चरम को पार कर चुके हैं, किन्तु 22 प्रदेशों में यह पीक आना अभी शेष है.

RBI के इस फैसले से लोन के पुनर्गठन में मिलेगी मदद

बता दे कि एसबीआइ-इकोरैप रिपोर्ट में कोविड-19 के ट्रेंड से लेकर अर्थव्यवस्था और आम जनता पर पड़ने वाले असर का विस्तार से विश्लेषण किया गया है. वैसे रिपोर्ट में यह माना गया है कि 75 प्रतिशत  रिकवरी रेट का कोविड-19 के पीक पर पहुंचने का कोई तय मापदंड नहीं है. ब्राजील में 69 फीसद पर ही यह पीक पर पहुंच गया था. इसी तरह मलेशिया में 79.5 फीसद, इरान में 77.6 फीसद, बहरीन में 77.1 फीसद, चीन में 77 फीसद, चिली में 70.4 फीसद रिकवरी रेट पर पीक आ गया था. इस तरह से 73 प्रतिशत रिकवरी रेट के साथ भारत पीक के बिल्कुल लगभग पहुंच गया है. कुछ जानकारों का मानना है कि आगामी दो से तीन सप्ताह में भारत पीक पर पहुंच जाएगा.

मुख्य कार्यकारी अधिकारी के पदों पर वैकेंसी, सैलरी 2 लाख रु

रिपोर्ट में बताया गया कि महाराष्ट्र, तेलंगाना, बिहार और पश्चिम बंगाल जैसे प्रदेशों में प्रति 10 लाख की आबादी पर हो रही कम टेस्टिंग को लेकर चिंता भी जताई गई है. रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया के दूसरे मुल्कों के मुताबिक भारत में कोरोना के केस दोगुना होने की गति बहुत अधिक है. यहां 22 दिन में कोरोना के केस दोगुना हो रहे हैं, जबकि विश्व में मामले के दोगुना होने में औसतन 43 दिन का वक्त लग रहा है. जाहिर है यह भी चिंता का बड़ा कारण बना हुआ है.

भारत में कभी भी चरम पर पहुंच सकता है कोरोना वायरस

स्वच्छ सर्वेक्षण-2020: पीएम मोदी आज करेंगे परिणामों की घोषणा, सफाईकर्मियों से करेंगे संवाद

दिल्ली में 25 अगस्त तक भारी बारिश की संभावना, मौसम विभाग ने जताया पूर्वानुमान

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -