अमेरिका में शुरू हुआ कोरोना के हल्के और मध्यम संक्रमितों का उपचार

अमेरिका में शुरू हुआ कोरोना के  हल्के और मध्यम संक्रमितों का उपचार

वाशिंगटन: अमेरिका में हल्के और मध्यम रूप से संक्रमित कोविड के मरीजों के उपचार के लिए क्लीनिकल ट्रायल शुरू कर दिया गया है. NIH ने मंगलवार को कहा कि अमेरिका में कोविड के लिए एक संभावित चिकित्सीय सुरक्षा और उसकी प्रभावकारिता का मूल्यांकन करने के लिए द्वितीय चरण का ट्रायल जारी कर दिया है. इस क्लीनिकल ट्रायल में कोविड-19 के उपचार के लिए mAbs पर आधारित एक चिकित्सीय जांच के लिए शामिल किया गया है.

NIH का भागों में US NIAID द्वारा प्रायोजित शोधकर्ता क्लीनिकल ​​साइटों के साथ कार्य कर रहे है. वह संभावित वालंटियर्स पर कार्य कर रहे हैं, जो वर्तमान में कोविड से संक्रमित हैं. NIH की एक विज्ञप्ति के सूचना के मुताबिक हल्के से मध्यम कोरोना मरीजों को उपचार के लिए हॉस्पिटल में भर्ती होने की जरूरत नहीं है.

हल्के और मध्यम कोविड के संक्रमित मरीजों को मेडिकल थेरेपी या एक प्लेसबो लेने के लिए आमंत्रित कर रहे है, जो कठोर रूप से डिज़ाइन किए गए क्लीनिकल के हिस्से के रूप में हो सकता है. इस टेस्ट को ACTIV-2 के रूप में जाना जा रहा है. बाद में एक ही टेस्ट प्रोटोकॉल के तहत अन्य प्रायोगिक उपचारों की भी जांच की सकती है.

WHO : कोरोना वैक्सीन को लेकर भारत को मिली चेतावनी

कोरोना : चीन का होगा पर्दाफाश, जांच करने पहुंची एडवांस टीम

बेरुत में हुए हमले पर रक्षा अधिकारियों ने किया ट्रम्प का विरोध