इस पौधे में होता है अदरक और लहसुन का फ्लेवर, बड़े बेहतरीन है इसके फायदे

हरे प्याज जैसा दिखने वाला पौधा चाइव्स के नाम से जाना जाता है। जी दरअसल यह पौधा बहुत खास है, क्योंकि ये अदरक (Ginger) और लहसुन (Garlic) दोनों का फ्लेवर एक साथ देता है। आप सभी को यह भी बता दें कि चाइव्स (Chives) में कुछ ऐसे तत्व मौजूद हैं, जो हमारी सेहत के लिए बेहद उपयोगी हैं। इस वजह से सभी लोगों को अपने किचन में चाइव्स का पौधा जरूर लगाना चाहिए। आपको बता दें कि चाइव्स को हरे प्याज की घास भी कहते हैं।

हरे प्याज की घास- आप सभी को बता दें कि ये एक ऐसा पौधा है, जिसका वानस्पतिक प्रवर्धन किया जाता है। हालांकि, यह पौधा हमारे आस-पास की सामान्य नर्सरी पर नहीं मिलेगा। जी हाँ और अगर आपके आस-पास कोई एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी हो, तो वहां उद्यानिकी विभाग में संपर्क करें। वहां आपको चाइव्स जरूर मिल सकता है। जी हाँ और अगर आपने हरा प्याज देखा होगा, तो ये कुछ वैसा ही है, जैसे हरे प्याज में लंबी-लंबी पत्तियां होती हैं, चाइव्स भी ठीक वैसा ही होता है।

चाइव्स का ये है साइंटिफिक नाम- चाइव्स का साइंटिफिक नाम 'एलियम स्कूनोप्रेसम' है और यह चाइव्स 'एलियम फैमिली' का पौधा है। आपको यह पौधा उत्तरी अमेरिका, यूरोप और एशिया में अधिक पाया जाता है और इसे आप ग्रॉसरी स्टोर से भी खरीद सकते हैं या अपने गार्डन में भी बड़ी आसानी से इसे उगा सकते हैं। इसके अलावा आपको यह भी बता दें कि इसमें विटामिन काफी अधिक मात्रा में होता है। जो हड्डियों से संबंधित रोगों से बचाता है।

* इसका सेवन आप सब्जी, सलाद, सूप आदि के तौर पर कर सकते हैं। यह एक प्रकार के बोन प्रोटीन के निर्माण को भी शरीर में बढ़ा सकता है, जिससे हड्डियों में खनिज की डेंसिटी बढ़ा सकती है।

* अगर आपकी पाचन शक्ति ठीक नहीं रहती है, तो आप चाइव्स का सेवन कर सकते हैं। जी हाँ और इसमें डाइटरी फाइबर होता है, जो हमारी आंतों में आवश्यक पोषक तत्वों जैसे खनिज की पूर्ति करता है। इसी के साथ ही यह पाचन क्रिया को भी दुरुस्त करता है।

* चाइव्स में कई ऐसे तत्व मौजूद हैं, जो हमारे दिल की सेहत को दुरुस्त रखते हैं। इसमें मौजूद एलिकिन नामक एक ऐसा तत्व होता है, जो शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल को बढ़ने से रोकता है। इसके अलावा, गुड कोलेस्ट्रॉल के बनने में सहयोग करता है। चाइव्स का नियमित सेवन आपको हार्ट संबंधी बीमारियों से बचाता है। जी हाँ और इसके सेवन से हार्ट अटैक, स्ट्रोक, ब्लड सेल्स में ब्लॉकेज जैसी समस्याओं से बचा जा सकता है।

बारिश शुरू होते ही दूध में मिलाकर पियें ये चीजें, नहीं होंगी बीमारियां

इन लोगों को भूल से भी नहीं खाना चाहिए कटहल वरना होगी बड़ी परेशानी

मंडाविया चिकित्सा पाठ्यक्रमों के शीर्ष 25 एनईईटी-पीजी रैंक धारकों को करेंगे सम्मानित

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -