बच्चे को आए गहरी नींद इसके लिए बस कर लें ये 4 काम

बच्चे को आए गहरी नींद इसके लिए बस कर लें ये 4 काम
Share:

आज की तेज़-तर्रार दुनिया में जीवनशैली में व्यवधान आम होता जा रहा है। खान-पान की आदतों से लेकर दैनिक दिनचर्या तक, लोग देर रात तक जागते हैं और सुबह देर तक जागते हैं, जिससे दैनिक कार्यक्रम अव्यवस्थित हो जाता है। यह प्रवृत्ति तब और भी चिंताजनक हो जाती है जब उन परिवारों की बात आती है जहां माता-पिता ऐसी जीवनशैली अपनाते हैं और बच्चे उनका अनुकरण करते हैं। हालाँकि, अगर बच्चों में देर रात तक जागने की आदत विकसित हो जाए, तो यह एक बड़ी समस्या पैदा कर सकता है, खासकर उन लोगों के लिए जिनके माता-पिता काम करते हैं और बच्चे स्कूल जाते हैं। देर रात तक रहने से सुबह जल्दी उठने में कठिनाई होती है, जिससे स्कूल के लिए तैयारी करते समय परेशानी होती है।

बच्चे के समुचित विकास के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि बच्चों को हर रात कम से कम 8 घंटे की नींद मिले। यदि उन्हें पर्याप्त आराम नहीं मिलता तो वे चिड़चिड़े हो सकते हैं। इसलिए, यदि आपके बच्चे को देर तक जागने की आदत हो गई है, तो इस समस्या के समाधान के लिए जीवनशैली में कुछ बदलावों पर विचार करना आवश्यक है।

लाइट डिम कर दें
घर में तेज रोशनी और शोर के लगातार इस्तेमाल से बच्चे की ठीक से सोने की क्षमता बाधित हो सकती है। इसलिए, सोते समय अपने बच्चे के कमरे में रोशनी कम करना महत्वपूर्ण है और सोने से ठीक पहले उन्हें गैजेट्स का उपयोग करने से बचें।

समय निर्धारित करें
भोजन और सोने के समय के लिए एक निश्चित कार्यक्रम निर्धारित करना महत्वपूर्ण है। सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा हर दिन एक निश्चित समय पर रात का खाना खाता है और फिर सोने से पहले उसे पचाने के लिए कुछ समय देता है। फिर, सोने का समय तय करें, अधिमानतः रात 9 या 10 बजे के आसपास, और लगातार इसका पालन करें। एक निर्धारित कार्यक्रम का पालन करने से, आपका बच्चा स्वाभाविक रूप से निर्धारित समय पर सोना शुरू कर देगा।

बच्चे के साथ सोएं
जबकि बच्चों के लिए अलग शयनकक्ष एक चलन बन गया है, विशेष रूप से छोटे बच्चों के लिए, अपने माता-पिता के साथ सोना फायदेमंद है। कई बच्चे रात में अकेले रहने पर डर या चिंता महसूस करते हैं, जिससे उनके लिए अच्छी नींद लेना मुश्किल हो जाता है। इसलिए, यदि आपका बच्चा चाहे तो उसे अपने साथ सोने की अनुमति देकर उसे आराम देने का प्रयास करें।

दिन में फिजिकल एक्टिविटी
आज के डिजिटल युग में बच्चे अक्सर गैजेट्स के इस्तेमाल में बहुत अधिक समय बिताते हैं। हालाँकि, उनके समग्र विकास के लिए शारीरिक गतिविधि आवश्यक है। इसलिए, अपने बच्चे को शाम के समय अन्य बच्चों के साथ आउटडोर गेम्स में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करें। यह न केवल शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है, बल्कि यह उन्हें सोते समय थकान महसूस करने में भी मदद करता है, जिससे संभवतः उनकी नींद की गुणवत्ता में सुधार होता है।

इन रणनीतियों को लागू करके, आप अपने बच्चे को स्वस्थ नींद की आदतें विकसित करने में मदद कर सकते हैं, यह सुनिश्चित करते हुए कि उन्हें उचित वृद्धि और विकास के लिए पर्याप्त आराम मिले। याद रखें, निरंतरता महत्वपूर्ण है, इसलिए दिनचर्या पर कायम रहें और धैर्य रखें क्योंकि आपका बच्चा नए शेड्यूल में समायोजित हो जाता है। समय और प्रयास से, आप देर रात जागने की समस्या का सफलतापूर्वक समाधान कर सकते हैं और अपने बच्चे के लिए बेहतर नींद को बढ़ावा दे सकते हैं।

ह्रदय रोग से पीड़ित पाकिस्तानी लड़की को एक भारतीय ने दिया अपना दिल, 35 लाख का ऑपरेशन भी मुफ्त में हुआ !

भाषण देते वक़्त अचानक मंच पर बेहोश होकर गिरे नितिन गडकरी, जानिए अब कैसा है हाल?

ये आदतें बनती है रिश्ते में ब्रेकअप का कारण, आज ही छोड़े

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -