सख्ती करने के बाद भी टूटा लॉकडाउन, सड़कों पर भारी मात्रा में नज़र आए लोग

नई दिल्ली: दुनिया के बाद अब देश को भी अपना शिकार बना रहा कोरोना, यदि इस वायरस से लड़ना है तो हमे हर तरह से सुरक्षा को भी अपनाना होगा. जैसे की सरकार द्वारा जारी किया गया लॉकडाउन का आदेश का पालन यदि हम अभी करते है तो इससे हम वायरस को फैलने से काफी हद तक रोक सकते है. लेकिन अब भी देश के कई शहरों में इस लॉक डाउन का पालन गंभीरता से नहीं किया जा रहा है. वहीं इस बात का पता चला है कि आनंद विहार और कौशांबी बस अड्डे पर शनिवार देर रात जमा लोगों की भारी भीड़ रविवार सुबह खत्म हो गई लेकिन लॉकडाउन तोड़कर लोगों का पलायन जारी रहा.  शनिवार रात यहां करीब 15,000 लोग मौजूद थे. इन सभी को उत्तर प्रदेश और बिहार में अपने गांव जाना था. इन लोगों को यूपी रोडवेज की बसों के माध्यम से इनके गांव भेज दिया गया है. इनमें से काफी लोगों को गाजियाबाद के लाल कुआं भेज दिया गया था. वहां से बसें इन्हें उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में पहुंचा रही हैं.

उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक एके सिंह ने बताया कि शनिवार रात तक जो लोग कौशांबी बस डिपो में मौजूद थे, उन्हें रोडवेज की करीब 800 बसों से विभिन्न जिलों में भेजा गया है. उन्होंने बताया कि शनिवार देर रात कौशांबी बस अड्डे से बसों का संचालन रोक दिया गया था. इसके बाद यहां से लोगों को गाजियाबाद के लाल कुआं भेजा गया था. गौरतलब है कि शनिवार को आनंद विहार बस अड्डे से लेकर कौशांबी बस अड्डे तक कई किलोमीटर तक लोगों की लाइन लग गई थी. ये सभी उत्तर प्रदेश में अपने-अपने गांव जाना चाहते थे.

अब लाल कुआं से भेजा जा रहा उनके गांव: गाजियाबाद के लाल कुआं से दिल्ली के प्रवासी कामगारों को बसों में बैठाकर उनके गांव की ओर रवाना किया जा रहा है. लाल कुआं पर मौजूद एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि कौशांबी बस अड्डे से रात के बाद बसों का संचालन रोक दिया गया था. रविवार सुबह 6 बजे से शाम 4 बजे तक 600 बसों के माध्यम से करीब 40,000 लोगों को उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों की ओर रवाना कर दिया गया है.

घर के लिए पैदल निकले युवक की हुई मौत, तीन बच्चों की थी जिम्मेदारी

वॉक के बहाने रफूचक्कर होना चाहता था कोरोना पॉजिटिव, जानें क्या हुआ आगे

अगर संदिग्ध या पॉजिटिव ने किया आइसोलेशन में जाने से मना तो, होगा ऐसा हाल

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -