अब सुप्रीम कोर्ट तक पंहुचा भीमा कोरेगांव हिंसा मामला

Aug 29 2018 12:39 PM
अब सुप्रीम कोर्ट तक पंहुचा भीमा कोरेगांव हिंसा मामला

मुंबई। महाराष्ट्र के पुणे के भीमा कोरेगांव में भड़की हिंसा का मामला अब देश की सर्वोच्च अदालत सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया है। इस मामले में इतिहासकार रोमिला थापर और चार अन्य कार्यकर्ताओं ने मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के विरोध में उच्चतम न्यायालय में एक याचिका दायर की। 

जन्मदिन पर नागार्जुन की फिल्म से नया लुक आया सामने

न्यायालय में दायर इस याचिका में इतिहासकार रोमिला थापर और उनके साथी कार्यकर्ताओं ने इस मामले में गिरफ्तार किये गए कार्यकर्ताओं की रिहाई की मांग की है। उन्होंने इन  कार्यकर्ताओं की रिहाई के साथ ही मामले की स्वतंत्र जांच कराने का भी किया है। देश की  उच्चतम न्यायालय सुप्रीम कोर्ट इस मामले की सुनवाई के लिये तैयार हो गया। कोर्ट ने इस याचिका पर  सुनवाई के लिये आज पौने चार बजे का समय निर्धारित किया है। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ द्वारा इस मामले में सुनवाई की जाएगी।

 

इसके साथ ही महाराष्ट्र हाई कोर्ट आज दोपहर सवा दो बजे  मानवाधिकार कार्यकर्ता गौतम नवलखा की उस याचिका पर  सुनवाई करेगा जिसमे गौतम ने महाराष्ट्र पुलिस द्वारा अपनी गिरफ्तारी को गैरकानूनी  बताते हुए मामले की निष्पक्ष जाँच करवाने की बात कही थी। इस मामले में मशहूर लेखक अरुंधति रॉय ने सरकार पर कंज कस्ते हुए कहा है कि मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की गिरफ़्तारी से लगता है कि जल्द ही देश में एमेर्जेंमसी की घोषणा की जा सकती है। 

कपूर परिवार के घर आया नन्हा मेहमान, गूंजी किलकारी

गौरतलब है कि भीमा कोरेगांव में हुई हिंसा के मामले में महाराष्ट्र पुलिस ने मंगलवार के दिन कई सामाजिक कार्यकर्ताओं के घरों पर छापेमारी की थी। पुलिस ने भीमा कोरेगाँव में हिंसा भड़काने के आरोप में सुधा भारद्वाज, वरवरा राव और गौतम नवलखा समेत पांच लोगों को ग़िरफ़्तार कर लिया गया है। 

ख़बरें और भी 

क्या आप जानते है कैसे तय होते है पेट्रोल डीज़ल के दाम ?

ट्रोल होते राधिका आप्टे और नेटफ्लिक्स, लोग जमकर ले रहे वायरल फनी मीम्स के मजे

सीआईसी ने पीएमओ को लगाई लताड़, पूछा कहाँ है कोह-ए-नूर और टीपू सुल्तान की तलवार

?