किसी की थाली का बैंगन नहीं है मुसलमान

लखनऊ : एक ओर जहां समाजवादी पार्टी के शीर्ष नेताओं में आपसी विवाद गहरा गया है और वर्चस्व की लड़ाई लड़ी जा रही है वहीं दूसरी ओर पार्टी के वरिष्ठ नेता और कैबिनेट मंत्री आजम खान ने पार्टी में जारी विवाद को लेकर अपनी खामोशी समाप्त कर दी है। इस मामले में उन्होंने कहा है कि राज्य के मुसलमान कभी भी गैर जिम्मेदार पार्टी का समर्थन नहीं करना चाहते हैं। एक तरह से आजम खान ने संभावना जताई है कि पार्टी की अंर्तकलह से पार्टी को वोट बैंक का नुकसान भी उठाना पड़ सकता है

हालांकि उन्होंने यह बात सीधे तौर पर नहीं कही और उन्होंने वोट बैंक व अंर्तकलह शब्द का उपयोग भी नहीं किया। मगर उन्होंने इतना जरूर कहा कि मुसलमान हारी हुई लड़ाई नहीं लडना चाहते हैं, जो हिंदू सेक्युलर हैं उनके साथ राज्य के मुस्लिम भी चलना चाहते हैं। उन्होंने मीडिया में प्रेस रीलीज़ जारी की है जिसमें उन्होंने लिखा है कि यह खेद की बात है कि बिना कुछ किए सभी ने मुस्लिम वोटों को अपनी जागीर समझ रखा है।

न तो मुसलमान पानी का बुलबुला है और ना ही थाली का बैंगन है जिसे कहीं भी लुढ़का दिया जाये। मुसलमानों का फैसला ऐसा होगा जिससे यह तय होगा कि भाजपा की सरकार यूपी में न बने। मुसलमान और मुसलमान का बुद्धिजीवी वर्ग अच्छा बुरा समझता है। वह राजनैतिक पकड़ वाले दल या व्यक्तित्व की ओर अपनी नज़र जमाए है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -